SCHOOL CALANDER | MDM CALCULATOR | SALARY CHART

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण मद 2023-24[Rani Laxmibai Self Defense]

3,079

Rani Laxmibai Self Defense : समग्र शिक्षा द्वारा सत्र 2023-24 की वार्षिक कार्य योजना एवं बजट के अतंर्गत राज्य के 12518 पूर्व माध्यमिक शाला के लिए राशि रू. 1877.70 लाख एवं 4575 हाईस्कूल एवं हायर सेकेण्डरी विद्यालय के लिए तीन माह हेतु प्रति शाला 15000 रू. के मान से राशि रू. 686.25 लाख, कुल 17093 विद्यालयों हेतु कुल राशि रू.2563.95 लाख (शब्दों में राशि रू. पच्चीस करोड़ तिरसठ लाख पन्चानवें हजार रू. मात्र) रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण मद में राशि जारी कर व्यय के लिये प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान गयी है।

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण मद 2023-24 [Rani Laxmibai Self Defense]

Rani Laxmibai Self Defense
Rani Laxmibai Self Defense

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति व निर्देश-

वित्तीय स्वीकृति 2023-24Open
वित्तीय स्वीकृति 2022-23Open

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण की प्रमुख तथ्य

Rani Laxmibai Self Defense : भारत सरकार ने देश की बेटियों को आत्मरक्षा का गुण सिखाने के लिए रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम (Rani Laxmibai Self Defense Training Programme) की शुरुआत की है। रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण के तहत देश की सभी बच्चीओं को अपनी सुरक्षा के लिए तैयार करना ही सरकार का लक्ष्य है। मौजूदा समय में ये कार्यक्रम देश के विभिन्न जिलों में चलाया जा रहा है।

  • प्रशिक्षण तिथि 15 सितम्बर 2023 से 15 फरवरी 2024 तक आयोजित
  • 90 दिवस का प्रशिक्षण
  • जुड़ों, कराटे, ताईक्वांडों, किंक बॉक्सिंग, मार्शल आर्ट विधाओं में दक्ष खिलाड़ियों / प्रशिक्षकों द्वारा प्रशिक्षण
  • व्यवस्था एवं प्रबंधन हेतु प्राचार्य / प्रधानपाठक की जिम्मेदारी
  • प्रशिक्षण की अवधि कम से कम 30 मिनट
  • बालिकाओं के प्रशिक्षण हेतु महिला प्रशिक्षक अनिवार्य

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण Scheme Component-

  • [P] Rani LakshmiBai Atma Raksha Training

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण की रुपरेखा –

  • प्रशिक्षण 15 सितम्बर 2023 से 15 फरवरी 2024 तक आयोजित किया जाना है।
  • शालाओं में 90 दिवस का प्रशिक्षण दिया जाना होगा।
  • स्वीकृत शालाओं में प्रशिक्षण शत प्रतिशत अनिवार्यतः कराया जावे।
  • प्रशिक्षकों का बैंक खाता संबंधी जानकारी अनिवार्यतः लिया जावे।
  • चयनित प्रशिक्षकों द्वारा जुड़ों, कराटे, ताईक्वांडों, किंक बॉक्सिंग, मार्शल आर्ट विधाओं में दक्ष खिलाड़ियों / प्रशिक्षकों से प्रशिक्षण संपादित किया जाये।
  • प्रशिक्षण केन्द्र के लिए उचित व्यवस्था एवं प्रबंधन हेतु प्राचार्य / प्रधानपाठक की जिम्मेदारी होगी।
  • प्रशिक्षण केन्द्र प्रभारी रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण हेतु रजिस्टर संधारित करेगें, तथा प्रतिदिन बालिकाओं की उपस्थिति अंकित किया जावे।
  • प्रतिदिन प्रशिक्षण की अवधि कम से कम 30 मिनट की होगी। प्रशिक्षण का समय संबंधित शाला के प्राचार्य / प्रधान पाठक तय करेंगे।
  • प्रशिक्षण के दौरान बालिकाओं से किसी प्रकार की व्यक्तिगत जानकारी प्रशिक्षक द्वारा नहीं ली जा सकती।
  • महिला प्रशिक्षक अनिवार्य है। यदि किसी कारणवश महिला प्रशिक्षक न हो तो संबंधित शाला के महिला शिक्षक की उपस्थिति में प्रशिक्षण शाला परिसर में ही कराया जाए।
  • प्रशिक्षण के दौरान प्रतिदिन बालिकाओं की सुरक्षा हेतु प्रभारी शिक्षिका प्रशिक्षण प्रारंभ समय से समाप्ति तक रूकेंगे एवं सभी बालिकाओं के जाने के बाद ही प्रस्थान करेंगे।

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण की कार्य योजना

  • पूर्व माध्यमिक शालाओं हेतु जिला मिशन समन्वयक प्रशिक्षण केन्द्र का निरीक्षण करेंगे एवं अपने अधिनस्थों को मॉनिटरिंग हेतु निर्देशित करेगें।
  • समग्र शिक्षा के ऑनलाईन पोर्टल में प्रतिदिन प्रशिक्षण कार्य जैसे- बच्चों की उपस्थिति, प्रशिक्षक की उपस्थिति आदि की जानकारी प्राचार्य / प्रधान पाठक द्वारा अनिवार्यतः प्रविष्ट किया जाये।
  • आपके द्वारा 90 दिवस के प्रशिक्षण समाप्ति पश्चात एक सप्ताह के भीतर पालन प्रतिवेदन (फोटोग्राफ्स / पेपर कटिंग) सहित उपयोगिता प्रमाण पत्र इस कार्यालय को भेजना सुनिश्चित करे।
  • प्रशिक्षकों के चयन हेतु जिला स्तर पर चयन समिति का गठन कलेक्टर के अनुमोदन से किया जावे।
  • गठित चयन समिति के द्वारा प्रशिक्षकों का चयन किया जावे एवं उन्हें शाला आबंटित किया जावे।
  • प्रशिक्षण के दौरान प्रतिदिन बालिकाओं की सुरक्षा हेतु प्रभारी शिक्षिका प्रशिक्षण प्रारंभ समय से समाप्ति तक रूकेंगे एवं सभी बालिकाओं के जाने के बाद ही प्रस्थान करेंगे।
  • पूर्व माध्यमिक शालाओं हेतु जिला मिशन समन्वयक एवं हाई / हायर सेकेण्डरी शालाओं हेतु जिला शिक्षा अधिकारी सह जिला परियोजना अधिकारी प्रशिक्षण केन्द्र का निरीक्षण करेंगे एवं अपने अधिनस्थों को मॉनिटरिंग हेतु निर्देशित करेगें ।
  • समग्र शिक्षा के ऑनलाईन पोर्टल में प्रतिदिन प्रशिक्षण कार्य जैसे- बच्चों की उपस्थिति, प्रशिक्षक की उपस्थिति आदि की जानकारी प्राचार्य / प्रधान पाठक द्वारा अनिवार्यतः प्रविष्ट किया जाये।

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण राशि विवरण-

2023-24₹ 15000 (पूर्व माध्यमिक)
₹ 15000 (हाई/हायर सेकेण्डरी)
2022-23₹ 5000 (पूर्व माध्यमिक)
₹ 5000 (हाई/हायर सेकेण्डरी)

रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण मद का उपयोग-

  • प्रशिक्षण हेतु प्रति शाला राशि रू. 15000.00 स्वीकृत है। शालाओं को आहरण सीमा जारी किया गया है।
  • प्रशिक्षण समाप्ति के पश्चात एक सप्ताह के भीतर कार्य दिवस के अनुसार प्रशिक्षक को भुगतान करना अनिवार्यतः सुनिश्चित करे ।
  • प्रशिक्षक को PFMS के माध्यम से शालाओं के प्राचार्य / प्रधान पाठक द्वारा भुगतान किया जाये।

उपयोगिता प्रमाण पत्र डाउनलोड करें [ Download Now]

edudepart.com

Get real time updates directly on you device, subscribe now.