You are currently viewing स्कूल रेडीनेस कार्यक्रम एवं सप्ताहवार गतिविधियाँ

स्कूल रेडीनेस कार्यक्रम एवं सप्ताहवार गतिविधियाँ

स्कूल रेडीनेस कार्यक्रम एवं सप्ताहवार गतिविधियाँ :-

निपुण भारत कार्यक्रम के अंतर्गत निर्धारित लर्निंग आउटकम एवं लक्ष्यों को ध्यान में रखते हुए नब्बे दिनों के लिए दिवसवार गतिविधियाँ डिजाइन कर शिक्षकों के सुलभ सन्दर्भ के लिए तैयार कि गयी है | इस सामग्री को बालवाडी एवं शुरुआती कक्षाओं में आवश्यकतानुसार समस्त बालवाडी एवं प्राथमिक शालाओं में आगामी कुछ सप्ताह के भीतर निपुण भारत के सभी लक्ष्य हासिल करना है, इसके लिए सभी विकासखंड एवं संकुल स्रोत केन्द्रों को पूर्ण जवाबदेही सौंपते संपादित करवाएं |

90 दिनों के शाला तैयारी कार्यक्रम हेतु सुझावात्मक दिवसवार गतिविधियाँ राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अंतर्गत शाला तैयारी की गयी है | जिसमें छोटे बच्चों को शाला में शुरुआती दिनों में शाला हेतु तैयारी के लिए संदर्शिका, अभ्यास पुस्तिकाएं तैयार की गयी है ।

स्कूल रेडीनेस आदेश व विवरणClick Here
स्कूल रेडीनेस कार्यक्रमClick Here
स्कूल रेडीनेस कार्यक्रम Google FormClick Here

स्कूल रेडीनेस के उद्देश्य:-

  • स्कूल रेडीनेस कार्यक्रम के तहत बच्चों को खेल के माध्यम से दक्षता हासिल करना ।
  • स्कूल रेडीनेस का उद्देश्य है कि कक्षा पहली में शाला प्रवेश के साथ बच्चे रूचि लेना |
  • बच्चे अपनी बातों को बोलने बताने में उत्सुक रहें और गतिविधियों को करने में बढ़-चढ़कर शामिल होना।
  • इस हेतु प्रतिदिन 2 घंटा व 12 सप्ताह की एक गतिविधि करना।
  • इन दो घंटो को चार भागो में बांटा है जिसमें-
  • पहला भाग मीट एंड ग्रीट का है (15 मिनट) जिसमें बच्चे और शिक्षक मिलकर, हाव-भाव के साथ कविता पाठ करेंगे,खेल-खेल में गतिविधि, विभिन्न पशु-पक्षियों की आवाजें निकालेंगे इन तमाम कार्यों को हम वार्म अप गतिविधि कहेंगे।
  • दूसरा भाग सर्कल टाइम का है, (15 मिनट) जिसका स्वरूप बालसभा जैसा होगा, जिसमें बच्चे मुक्त संवाद करेंगे. अपनी रूचियों के बारे में कहेंगे, जिसमें शिक्षक बच्चों को बोलने के कई सारे मौके देंगे। इस गतिविधि का समय भी 15 मिनट का होगा।
  • तीसरा इंडोर खेल (30 मिनट)– शिक्षक, बच्चों को कक्षा के अन्दर ही खेल खेलने को कहेंगे, जैसे स्वयं से उनके मनपसंदखिलौने बनवाना, पत्थरों, पत्तियों आदि से जुडी हुए गतिविधियां, बच्चोंको स्वतंत्र रूप से करने को देंगे। ये कार्य आधे घंटे की समय सीमा में पूर्ण होगा।
  • स्कूल रेडीनेस गतिविधि बैंक पर कार्य करना (एक घंटा)– इन सभी गतिविधियों को NCERT द्वारा तय किये गएसीखने के प्रतिफलो के आधार पर बनाया गया है। मौटे तौर पर इन दक्षताओं / लक्ष्यों को तीन भागों में बांटा गया है |
    • हेल्थ एंड वेलबिइंग जिसे (HW) से इंकित किया गया है।
    • इफेक्टिव कम्यूनिकेटर जिसे (EC) से इंकित किया गया है।
    • इन्वाल्व लर्नर (IL) से इंकित किया गया है।
  • प्रतिदिन इन गतिविधियों के माध्यम से अपेक्षित दक्षताओं पर आधारित कार्य, बच्चों के साथ किया जाना है। बच्चों के साथ कुल बारह सप्ताह / 90 दिनों का कार्य किया जाना है, जिसमें हर छटवें दिन पिछले पाँच दिनों के कार्यों और सीखने-सिखाने की प्रक्रिया की पुनरावृति की जाएगी।
सप्ताहगतिविधि
HW
गतिविधि
ECL1
गतिविधि
ECL2
गतिविधि
IL
सप्ताह-1HW 3.1ECL1-3.1ECL2-3.1IL-3.1-3.2
सप्ताह-2HW 3.2ECL1-3.2-3.3ECL2-3.2IL-3.3-3.4
सप्ताह-3HW 3.3-3.5ECL1-3.4-3.5ECL2-3.3IL-3.5-3.6
सप्ताह-4HW 3.6-3.7ECL1-3.6ECL2-3.4IL-3.7-3.8
सप्ताह-5HW 3.8ECL1-3.7ECL2-3.5-3.6IL-3.9-3.10
सप्ताह-6HW 3.9ECL1-3.8ECL2-3.7IL-3.11-3.12
सप्ताह-7HW 3.10ECL1-3.9ECL2-3.8IL-3.13-3.14
सप्ताह-8HW 3.11ECL2-3.9IL-3.15-3.20
सप्ताह-9HW 3.12-13ECL2-3.10IL-3.21-3.22
सप्ताह-10HW 3.14-15ECL2-3.11-3.12IL-3.23-3.25
सप्ताह-11HW 3.16-17ECL2-3.13-3.14IL-3.26-3.27
सप्ताह-12HW 3.18ECL2-3.15IL-3.29

FOLLOW – Edudepart.com

शिक्षा जगत से जुड़े हुए सभी लेटेस्ट जानकारी के लिए Edudepart.com पर विजिट करें और हमारे सोशल मिडिया @ Telegram @ WhatsAppFacebook @ Twitter @ Youtube को जॉइन करें। शिक्षा विभाग द्वारा जारी किये आदेशों व निर्देशों का अपडेट के लिए हमें सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply