You are currently viewing विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन पर ऑनलाइन कार्यक्रम क्यों, क्या और कैसे ?

विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन पर ऑनलाइन कार्यक्रम क्यों, क्या और कैसे ?

Online Programme on School Leadership and Management How? Why? Where?

विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन पर ऑनलाइन कार्यक्रम क्यों, क्या और कैसे ?

विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन पर ऑन-लाइन कार्यक्रम से संबंधित, आपके प्रश्नों – कौन, क्यों, क्या और कैसे को क्रमश: जानते और समझते हैं –

ऑनलाइन कार्यक्रम किसके लिये है ?

यह कार्यक्रम पूरे देश के विद्यालय प्रमुखों के लिये है जो शिक्षा के प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक स्तर से जुड़े हुए हैं । कुछ अन्तराल के बाद यह कार्यक्रम उन वरिष्ठ अध्यापकों द्वारा भी किया जा सकेगा जो भविष्य में विद्यालय प्रमुख बनना चाहते हैं।

ऑनलाइन कार्यक्रम क्यों ?

विद्यालय प्रमुख, विद्यालय रूपान्तरण को सक्षम बनाने एवं बदलावों का नेतृत्व करने में मुख्य प्रेरक शक्ति होता है। सामान्य विद्यालयों को ‘उत्कृष्टता के केंद्र’ में परिवर्तित करने हेतु विद्यालय प्रमुख की भूमिका में बदलाव की आवश्यकता है ताकि वह मात्र प्रशासकीय एवं प्रबंधकीय ज़िम्मेदारियों तक ही सीमित न रहकर विद्यालय रूपान्तरण हेतु सक्रिय अभ्यासों की भी पहल करें। इस बदलाव हेतु विद्यालय प्रमुखों में क्षमता संवर्धन की आवश्यकता है जो पारम्परिक तरीके से दिए जाने वाले प्रशिक्षण की अपेक्षा दीर्घकालिक विकासात्मक प्रक्षेप-पथों (trajectories) के द्वारा बेहतर सिद्ध हो सकती है | niepa ऐसे विकासात्मक प्रशिक्षण कि परिकल्पना करते हैं जो विद्यालय के वास्तविक जीवन की चुनौतियों को संबोधित करने में सहायक हो | इस प्रकार से विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम विद्यालय प्रमुखों में दीर्घकालिक एवं सतत रूप से दक्षता निर्माण हेतु पूरे देश में विद्यालयी शिक्षा के प्रत्येक स्तर पर प्रारंभ किया गया है। राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केंद्र ने राज्य संसाधन समूहों के माध्यम से स्वयं को क्रमानुसार सभी राज्यों तथा केंद्र शासित राज्यों में पंजीकृत किया है जिसकी सहायता से विद्यालय प्रमुखों में नेतृत्व क्षमता संवर्धन किया जा रहा है |

ऑनलाइन कार्यक्रम की विषयवस्तु क्या है?

यह कार्यक्रम विद्यालय नेतृत्व केन्द्र द्वारा अवधारित राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व विकास की रुपरेखा तथा पाठ्यचर्या के ढांचा पर आधारित है | पाठ्यचर्या में सात मुख्य क्षेत्र हैं जिन्हें सात कोर्स में परिवर्तित किया गया है | ये सभी कोर्स विद्यालय प्रमुखों की भूमिकाओं व उत्तरदायित्त्वों पर आधारित हैं |

कार्यक्रम में सम्मिलित कोर्स हैं –

विद्यालय नेतृत्व का दृष्टिकोण, स्वयं का विकास, शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया का रूपांतरण, दल बनाना व दल का नेतृत्व करना, नवाचारों का नेतृत्व, साझेदारियों का नेतृत्व तथा विद्यालय प्रशासन का नेतृत्व | अंतिम कोर्स इस पूरे कार्यक्रम से ग्रहण किए गये अधिगम का समेकन करने में विद्यालय प्रमुखों की सहायता करता है |ऑनलाइन विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम को तीन स्तरों – प्रारंभिक, माध्यमिक एवं अग्रिम पर क्रमबद्ध तरीके से लागू करने की योजना है। वर्तमान कार्यक्रम प्रारंभिक स्तर का है एन.सी.एस.एल. शीघ्र ही माध्यमिक एवं अग्रिम स्तर पर भी ऑनलाइन कार्यक्रम को आरम्भ करेगा | ऑनलाइन कार्यक्रम के प्रत्येक स्तर को चार भागों- ई-विषयवस्तु, स्व-अधिगम सामग्री, संदर्भ पठन सामग्री एवं मूल्यांकन में व्यवस्थित किया गया है। ऐसा विश्वास है कि प्रत्येक स्तर विद्यालय प्रमुखों को, विद्यालय रूपान्तरण एवं नेतृत्व हेतु आवश्यक ज्ञान, दक्षताओं एवं दृष्टिकोण को प्राप्त करने में सक्षम बनाएगा |

ऑनलाइन कार्यक्रम में कैसे नामांकित हो सकते हैं?

– नामांकन हेतु लिंक http://pslm.niepa.ac.in/ है ।

  1. पंजीकरण की तारीख व कार्यक्रम के प्रारम्भ की तारीख के बीच में कुछ दिनों का अन्तर हो सकता है। पंजीकरण का पहला चक्र 10 से 25 सितम्बर है जिसके बीच आप किसी भी दिन पंजीकरण कर सकते हैं, परन्तु आपका कार्यक्रम 26 सितम्बर से ही प्रारम्भ होगा। पंजीकरण का दूसरा चक्र 26 सितम्बर से प्रारम्भ होगा व 10 अक्टूबर तक चलेगा। यदि आप इस दौरान पंजीकरण करते हैं तो आपका कार्यक्रम 11 अक्टूबर से प्रारम्भ होगा।
  2. यदि आप किसी कारणवश पहले चक्र में पंजीकरण नहीं करवा पाए हैं तो दूसरे व तीसरे चक्र में कर सकते हैं।
  3. इस कार्यक्रम के सात मुख्य कोर्स हैं। आठवॉं कोर्स आपको पूरे कार्यक्रम के मुख्य अधिगम बिन्दुओं को दोहराने में व आपकी विद्यालय विकास योजना बनाने में सहायक होगा।
  4. पूरे कार्यक्रम की अवधि 30 सम्पर्क घंटे है जो कि १० सप्ताह में बटे हुए हैं।
  5. आपको प्रत्येक सप्ताह मात्र तीन घंटे देने हैं व वेबसाइट पर दी हुयी अधिगम साम्रगी को पढ़ना है। सप्ताह में किसी भी वक्त जब आपके पास समय हो, तीन घंटे निकाल सकते हैं, या तो एक साथ या फिर टुकड़ों में। इस अनुशासन के साथ आप ढ़ाई महीनें में कार्यक्रम को आसानी से पूर्ण कर सकते हैं।
  6. प्रत्येक कोर्स की सामग्री पढ़ने के बाद आपको बहु-विकल्पीय प्रश्न (M.C.Q )पूरा करना है तभी कोर्स पूर्ण माना जाएगा।
  7. समस्त कार्यक्रम पूर्ण तभी माना जाएगा जब आपने सभी आठों कोर्स के बहु-विकल्पीय प्रश्न (M.C.Q ) पूरे कर लिए हैं।
  8. कार्यक्रम पूर्ण होने पर आपको एन.सी.एस.एल, नीपा के द्वारा आपके पंजीकृत ईमेल आई डी पर सर्टिफिकेट या प्रमाण पत्र प्राप्त होगा।
  9. कोर्स की सप्ताहवार तालिका नीचे दी गयी है। आठ में से मात्र दो कोर्स हैं जिनमें आपको 6 घंटे या 2 सप्ताह देने हैं (कोर्स सं. 1 व 3), बाकी सभी कोर्स तीन घंटे या 1 सप्ताह के हैं।

कार्यक्रम नामांकन हेतु वीडियो देखने के लिये यहा Click करे

Follow – Edudepart

Leave a Reply