FLN TARGET 2026 तक दक्षता पूरा करने का लक्ष्य : विद्यार्थी विकास सूचकांक का प्रदर्शन

1,008

राष्ट्रीय शिक्षा नीति NEP 2020 के अनुरुप सभी बच्चों में कक्षा 3 तक FLN TARGET दक्षता (भाषा एवं गणित की दक्षताएं) पूरा करने का लक्ष्य सन 2026 तक हासिल करवाई जानी है। सभी बच्चों में मूलभूत दक्षताओं को बहुत अच्छे से हासिल करवाए जाने हेतु प्रत्येक बच्चे के दक्षताओं में हो रही प्रगति की नियमित ट्रेकिंग करवाई जानी है। इस हेतु प्रत्येक प्राथमिक शाला में प्रत्येक कक्षा में बच्चों की उपलब्धि एवं दक्षता हासिल करने के आधार पर एक चार्ट में विद्यार्थी विकास सूचकांक का प्रदर्शन करना होगा।

FLN TARGET दक्षता कार्यक्रम क्या है ?

भारत सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 पेश की है जिसमें FLN कार्यक्रम शामिल है।  FLN TARGET दक्षता कार्यक्रम का उद्देश्य 3 से 8 वर्ष की आयु के सभी बच्चों को भाषा और गणित की शिक्षा प्रदान करना है। FLN Mission 2024 भारत के सभी राज्यों में शुरू किया जा रहा है और इसका लक्ष्य 2025-26 तक छोटे बच्चों के समग्र विकास में मदद करना है।

FLN TARGET
FLN TARGET

विद्यार्थी विकास सूचकांक से आकलन

NEP 2020 – बालवाडी/ आंगनबाडी के 5 आयु वर्ग के बच्चों से लेकर कक्षा पांचवीं तक के बच्चों का आकलन बिलकुल सही तरीके से करते हुए उनका प्रदर्शन कक्षा में एक चार्ट में विद्यार्थी विकास सूचकांक में करना है । सामाजिक अंकेक्षण के दौरान समुदाय द्वारा कक्षा चौथी एवं पांचवीं के बच्चों का भी कक्षा तीन तक का स्तर जांचा जाएगा।

विद्यार्थी विकास सूचकांक चार्ट PDF प्राप्त करें [ PDF Download ]

विद्यार्थी विकास सूचकांक ( FLN TARGET) का प्रदर्शन

NEP 2020 – सभी विद्यालय विद्यार्थी विकास सूचकांक को 26 जनवरी, 2024 तक सामाजिक अंकेक्षण के पहले कक्षा में प्रदर्शित करना सुनिश्चित करेंगे।

बच्चों की दक्षता संबंधी स्थिति का सही सही आकलन कर लिखना होगा.

विद्यार्थी विकास सूचकांक के आधार पर सही टिक किए हुए बच्चों की जांच सामाजिक अंकेक्षण के दौरान समुदाय द्वारा की जाएगी।

विभिन्न अधिकारियों द्वारा भी विद्यार्थी विकास सूचकांक के आधार पर सही टिक किए हुए बच्चों के दक्षताओं की जांच कर पुष्टि की जाएगी।

इसके बाद संकुल समन्वयकों द्वारा Cross चेक करते हुए प्रविष्टियाँ सही पाए जाने पर इनकी आनलाइन एंट्री की जाएगी।


NEP 2020 – बालवाडी से लेकर कक्षा तीन तक की कक्षाओं के लिए तैयार विद्यार्थी विकास सूचकांक के नमूने भी राज्य परियोजना कार्यालय के द्वारा भेजे जा रहे हैं। कक्षा 3 के सूचकांकों का उपयोग कक्षा 4 एवं 5 के बच्चों के लिए भी किया जाना होगा। जिले से लेकर संकुल स्तर तक के अधिकारियों से इन विद्यार्थी विकास सूचकांकों की प्रविष्टि का Cross-चेक करवाते हुए गलत एंट्री करने की परंपरा पर कठोरता से रोक लगाई जाए. सामाजिक अंकेक्षण के माध्यम से भी बच्चों के स्तर की सही पहचान करने हेतु पूरी तैयारी रखी जाए. इस हेतु पृथक से टूल भेजे जाने की बात कही गई है ।

स्तरवार विद्यार्थी विकास सूचकांक FLN TARGET:-

बालवाडी/ आंगनबाडी :-

  • इस स्तर पर श्यामपट में दो अक्षर से बने दस पन्द्रह सरल शब्दों को लिखकर कम से कम पांच शब्दों को पढवाएं। सही उच्चारण के साथ पढ़ पाने की स्थिति में टिक लगाएं
  • गणित में बच्चों को दस कंकड़/ बीज आदि देकर उसे गिनने, एक से दस तक गिनती बोलने का काम देकर अच्छे से बोल पाने की स्थिति में टिक करें।

कक्षा पहली :-

  • मुस्कान पुस्तकालय में छोटे बच्चों के लिए चित्र कहानियाँ युक्त पुस्तकें उपलब्ध करवाई गयी है। इन पुस्तकों को बच्चों में बांटकर उसमें से 4-5 सरल शब्दों सहित छोटे-छोटे वाक्य पढ़ पाते हैं तो उन बच्चों के नाम के आगे टिक करें
  • गणित में श्यामपट पर 99 तक की कुछ संख्याएं लिखकर उन्हें पढने एवं कुछ संख्याओं को सुनकर उन्हें अपनी अपनी कापी में लिखने का अवसर देवें। यदि कम से कम पांच संख्याएं सही तरीके से पढ़ और लिख पा रहे हैं तो उन नामों के आगे टिक करें।

कक्षा दूसरी :-

  • इस स्तर पर परीक्षण करने हेतु आप उच्च प्राथमिक शालाओं या आपके यहाँ मुस्कान पुस्तकालय में भेजी गयी केन्द्रीय भारतीय भाषा संस्थान CIIL की पुस्तकों का उपयोग करें इन पुस्तकों की कहानियों में सरल शब्दों के 8-10 वाक्यों को लगभग 45-60 शब्द प्रति मिनट की गति से सही उच्चारण के साथ पढ़ पा रहे हैं तो उन बच्चों के नाम के सम्मुख टिक करें,
  • गणित में श्यामपट पर 999 तक की संख्याओं में से कुछ संख्याएँ लिखकर उन्हें पहचानने, ठीक से पढ़ पाने, गिनती सुनाने, कुछ संख्या बोलकर उन्हें अपनी कापी में लिखने के साथ-साथ 99 तक की संख्याओं को जोड़ने संबंधी कुछ सवाल देते हुए सही हल कर पा रहे बच्चों की पहचान कर उनके नाम के सम्मुख टिक करें।

कक्षा तीसरी :-

  • इस स्तर पर परीक्षण करने हेतु आप उच्च प्राथमिक शालाओं या आपके यहाँ मुस्कान पुस्तकालय में भेजी गयी केन्द्रीय भारतीय भाषा संस्थान CIIL की पुस्तकों का उपयोग करें बच्चों को अलग अलग कहानी की पुस्तकें देते हुए उन्हें पढने को कहें। यह देखें कि वे लगभग 60 शब्द प्रति मिनट की गति से कहानी को पढ़ पा रहे हैं अथवा नहीं। उसके बाद उनसे उस पढी हुई कहानी से कम से कम चार प्रश्न पूछकर उत्तर देने को कहें। यदि वे चार में से तीन प्रश्नों के उत्तर दे पा रहे हैं तो उन बच्चों के नाम के सम्मुख टिक करें,
  • गणित में श्यामपट पर 9999 तक की संख्याओं में से कुछ संख्याएँ लिखकर उन्हें पहचानने, ठीक से पढ़ पाने, गिनती सुनाने, कुछ संख्या बोलकर उन्हें अपनी कापी में लिखने के साथ-साथ बच्चों को कैलेण्डर में से तिथि और दिन की पहचान करने / घड़ी दिखाकर समय पूछने पर सही हल कर पा रहे बच्चों की पहचान कर उनके नाम के सम्मुख टिक करें

विद्यार्थी विकास सूचकांक का उपयोग:

एक चार्ट अथवा रजिस्टर में जब आप प्रत्येक बच्चे को प्राप्त दक्षता की प्रविष्टि करेंगे तो यह आपको आगे प्रत्येक बच्चे पर ध्यान देते हुए उनके लिए योजना बनाने में बहुत सहयोग कर सकेंगे।

जैसे कि- जिन बच्चों को कोई दक्षता अच्छे से आती है उनको ऐसे बच्चों के साथ ग्रुप बनवाएं जिनको वो दक्षता ठीक से नहीं आती। इन बच्चों को आपस में सीखने का अवसर देते हुए सीख जाने पर पुनः परीक्षण कर देखें और सही पाए जाने पर टिक करें यदि बहुत अधिक बच्चे किसी दक्षता को ठीक से नहीं कर पा रहे हैं तो उस दक्षता को पुनः किसी दूसरे तरीके से सिखाने का प्रयास करें और देखें कि कितने बच्चे अब उस दक्षता से जुड़े सवाल सही तरीके से कर पा रहे हैं।

तीन माह या सौ दिनों के बाद पुनः परीक्षण करने पर कक्षा में कोई भी बच्चा ऐसा नहीं होना चाहिए जिन्हें निर्धारित दक्षताएं नहीं आती। ऐसे गाँवों को FLN गाँव के रुप में चिहनांकित करेंगे यह देखा जाएगा कि किसके संकुल, विकासखंड एवं जिले में ऐसे FLN गाँव का प्रतिशत सबसे अधिक है।

इसके बाद अगले चरण में FLN TARGET को और अधिक कठिन किया जाएगा और इन दक्षताओं में जिन गाँवों को सफलता मिलेगी उन गाँवों को FLN + गाँव के रुप में पहचान करवाई जाएगी

विद्यार्थी विकास सूचकांक
NEP 2020

Edudepart

Get real time updates directly on you device, subscribe now.