हमसे जुड़ें:

Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

चर्चा पत्र मार्च-2022 में क्या है खास?

2,114

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

चर्चा पत्र मार्च

ग्रीष्मावकाश में हुई कटौती से मिले समय का बेहतर उपयोग सीखने में हुई क्षति (Learning Loss) की भरपाई (learning Recovery) कैसे करेंगे ?

विभिन्न स्तरों में कार्य दल (Working Group) का गठन कर कार्यक्रम क्रियान्वयन करें !

1. शिक्षकों का सतत क्षमता विकास
2. शालाओं में उपलब्ध कराए जाने हेतु शिक्षण सामग्री
3. इस अवधि में कक्षा में उपयोग में लाए जाने हेतु शिक्षण विधियाँ

4. शिक्षकों/ विद्यार्थियों को समर्थन, प्रोत्साहन एवं समस्या समाधान

5. मानिटरिंग एवं आकलन प्रक्रिया

चर्चा पत्र मार्च 2022PDF DOWNLOAD
औडियो podcast सुनने के लिए यहाँ Tap करें MP3 DOWNLOAD
चर्चा पत्र जनवरी 2022

एजेंडा एक: निरीक्षण हेतु शालाओं को तैयार करना:-

  • राज्य में अकादमिक निरीक्षण हेतु आनलाइन व्यवस्था लागू की गयी है।
  • इस हेतु स्कूलों को तैयार कर सौ अंकों में अधिक से अधिक अंक पाने हेतु सभी स्कूलों में आवश्यक तैयारियां करनी होगी।
  • अकादमिक निरीक्षण हेतु बिंदुओं के लिए चर्चा पत्र देखें |

एजेंडा दो: अंगना म शिक्षा :-

  • राज्य में महिला शिक्षिकाओं द्वारा कोरोना लाकडाउन के दौरान बच्चों का सीखना जारी रखने हेतु अंगना म शिक्षा कार्यक्रम संचालित किया गया।
  • इस कार्यक्रम का दूसरा चरण माह अप्रैल-2022 से जून-2022 तक चलाया जाएगा एवं इसमें लक्षित समूह 5 से 8 आयु वर्ग के बच्चे शामिल किये जाएंगे।
  • इस कार्यक्रम के अंतर्गत अंगना म शिक्षा मेलों का आयोजन किया जाएगा मेला की रुपरेखा के लिए चर्चा पत्र देखें।

एजेंडा तीन: मूलभूत साक्षरता एवं गणितीय कौशल विकास हेतु कार्य :-

  • निपुण भारत अभियान में निर्धारित लर्निंग आउटकम हासिल करने की दिशा में कार्य करते हुए मूलभूत भाषाई एवं गणितीय कौशल विकास किया जाना |
  • सभी बच्चों में समझ के साथ पढ़ने के कौशल विकास निरंतर प्रयास करें |
  • अपने आसपास बड़े-बुजुर्गों को एकत्र कर उनके माध्यम से शाला समय से अतिरिक्त समय में बच्चों को कहानियाँ सुनाए जाने हेतु जारी दिशानिर्देशों के अनुरूप कहानी उत्सव का आयोजन करें |

एजेंडा चार: स्कूलों में सोशियल ओडिट :-

  • इस माह सभी स्कूलों में सोशियल ओडिट होना है |
  • इसके लिए सभी संकुल समन्वयकों को जांच हेतु एक असर टूल दिया जाएगा।
  • इसके माध्यम से सभी बच्चों मूलभूत पठन एवं गणितीय कौशल की जानकारी ली जाएगी।
  • इस सोशियल ओडिट का पूरा फोकस कोरोना की वजह से नुकसान हुआ हैं उसे कैसे कम किया जाए।

एजेंडा पांच: संकुल स्तर पर मासिक बैठकों का आयोजन:-

  • संकुल के सभी शिक्षक चर्चा पत्र को cgschool.in में जाकर सीधे स्वयं डाउनलोड करें, उन्हें सोशियल मीडिया से न वितरित करें ताकि वास्तविक पाठकों की संख्या का पता चले |
  • संकुल समन्वयक सभी शिक्षकों से चर्चा करने के बाद संकुल की बैठक में शामिल होने हेतु आमंत्रित करें|

एजेंडा छह सौ दिवसीय अभियान को गति देना:-

  • जनवरी से चौदह सप्ताह के लिए गतिविधियां प्रारंभ की गयी है।
  • चौदह सप्ताह तक की गतिविधियाँ कों गंभीरता के साथ प्रारंभ किया जाए।
  • विद्यार्थी विकास सूचकांक से बच्चों की दक्षता से प्रगति को देखें।

एजेंडा सात: आपके पास उपलब्ध बजट जिसे इसी सत्र में व्यय करना है:-

  • समग्र शिक्षा में जमीनी कार्यालयों एवं स्कूलों को अब समग्र शिक्षा में PFMS लागू किया गया है |
  • अब विभिन्न कार्यालयों को विभिन्न मदों में व्यय करने हेतु एक बजट सीमा तय कर दी गयी है।
  • स्कूल या कार्यालय उनको जारी लिमिट के अनुसार समय पर बजट का उपयोग नहीं किया तो वह राशि राज्य के खाते में ही रहेगी।
  • मार्च अंत तक बजट को अविलंब सही निर्धारित कार्यों में व्यय करना सुनिश्चित करें।

एजेंडा आठ: ग्रीष्मावकाश में कटौती से उपलब्ध कार्यदिवस हेतु योजना:-

  • शिक्षकों का सतत क्षमता विकास करना |
  • शालाओं में उपलब्ध कराए जाने हेतु शिक्षण सामग्री तैयार करना |
  • इस अवधि में कक्षा में उपयोग में लाए जाने हेतु शिक्षण विधियां तैयार करना |
  • शिक्षकों व विद्यार्थियों को समर्थन, प्रोत्साहन एवं समस्या समाधान करना |
  • मानिटरिंग एवं आकलन प्रक्रिया तैयार करना |

एजेंडा नौ: FLN हेतु मेंटर्स का चयन:-

  • संकुल स्तर पर सभी शिक्षकों की एक बैठक कर FLN के संबंध में वर्तमान स्थिति, सुधार के लिए सौ दिवसीय अभियान की जानकारी लेना |
  • सोशियल ओडिट आदि की जानकारी देते हुए चर्चा पत्र PLC के रूप में कार्य करने हेतु पांच-पांच शिक्षकों का चयन कर सूची एवं शिक्षकों का विवरण उपलब्ध कराना |

एजेंडा दस: निरीक्षण के लिए पोर्टल में पंजीयन:-

  • राज्य में निरीक्षण के लिए जिम्मेदार अधिकारियों को अपने उच्च कार्यालय से cgschool.in में अपना पंजीयन करवाना होगा।
  • उनके द्वारा पंजीयन करने पर वे अपने क्षेत्र के स्कूलों में निरीक्षण कर उसकी प्रविष्टि कर सकेंगे।
  • अगले माह से राज्य से प्रत्येक अधिकारी द्वारा किए जा रहे निरीक्षण की मानिटरिंग होगी।
  • DPI / SCERT / Samagra सभी जल्दी से जल्दी राज्य स्तर से लेकर संकुल स्तर तक सभी अधिकारियों का पंजीयन कर उन्हें निरीक्षण के लिए सक्षम बनाते हुए निर्धारित कोटे अनुसार निरीक्षण जारी रखेंगे |

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.