You are currently viewing कक्षा 1 या आयु 6-7 बच्चों के लिए लक्ष्य- निपुण भारत मिशन
Nipun-Bharat-Abhiyan

कक्षा 1 या आयु 6-7 बच्चों के लिए लक्ष्य- निपुण भारत मिशन

कक्षा 1 या आयु 6-7 बच्चों के लिए लक्ष्य कैसी होनी चाहिए इस हेतु निपुण भारत मिशन का पोस्ट है .

निपुण भारत मिशन

शिक्षा मंत्रालय द्वारा “राष्ट्रीय साक्षरता एवं संख्या ज्ञान दक्षता पहल (निपुण भारत)” नामक राष्ट्रीय मूलभूत साक्षरता एवं संख्या ज्ञान मिशन की प्राथमिकता के साथ स्थापना की गई है। राष्ट्रीय मिशन राज्यों, संघ राज्य क्षेत्रों के लिए प्राथमिकताएं और कार्यान्वित की जाने वाली मदों को निर्धारित करता है ताकि प्रत्येक बच्चे के लिए कक्षा-3 तक मूलभूत साक्षरता एवं संख्या ज्ञान में दक्षता के लक्ष्य को प्राप्त किया जा सके।

 6-7 बच्चों के लिए लक्ष्य
Nipun-Bharat-Abhiyan

कक्षा 1 या आयु 6-7 बच्चों के लिए लक्ष्य-

निपुण भारत मिशन के अंतर्गत कक्षा 1 या आयु 6-7 बच्चों के लिए निम्न लक्ष्य सूची है:-

मौखिक भाषा


1. अपनी जरूरतों, परिवेश के बारे में दोस्तों और कक्षा शिक्षक के साथ बातचीत करना।
2 कक्षा में उपलब्ध प्रिंट सामग्री के बारे में बात करना।
3. कविताओं / गीतों को एक्शन के साथ सुनाना ।

पढ़ना


1. सक्रिय तरीके से जोर से कहानी कहने के सत्र के दौरान भाग लेना तथा कहानी सत्र के दौरान और बाद में सवालों का जवाब देना, कठपुतलियों और अन्य सामग्रियों के साथ परिचित कहानी का अभिनय करना।
2. आविष्कृत वर्तनी के साथ शब्द लिखने के लिए ध्वनि प्रतीक का उपयोग करना।
3. आयु उपयुक्त अज्ञात पाठ में कम से कम 4-5 सरल शब्द सहित छोटे-छोटे वाक्य पढ़ना।

लेखन

1. परिचित संदर्भो (कहानी / कविता / पर्यावरण प्रिंट आदि) में प्रयोग होने वाले शब्दों में मात्राओं के साथ परिचित होना।

2. लेखन, ड्राइंग, और / या चीजों को अर्थ देना और अपने कार्यपत्र, बधाई संदेश, चित्रों, आदि पर अपना नाम लिखना और ऐसे चित्र बनाना जो पहचानने योग्य हों या अन्य लोगों से मेल खाते हों।

संख्यात्मक ज्ञान

1. 20 तक वस्तुओं की गिनती
2. 99 तक की संख्या पढ़ना और लिखना
3. दैनिक जीवन स्थितियों में 9 तक संख्याओं के जोड़ और घटाव का उपयोग करना।
4. अपने चारों ओर 3 डी आकृतियों (ठोस आकृतियों) के भौतिक गुणों का अवलोकन और वर्णन करना / जैसे गोल / समतल सतह, कोनों और किनारों की संख्या आदि।
5. गैर-मानक गैर-समान इकाइयों जैसे हाथ की अवधि, पैर की लम्बाई, उंगलियों आदि का उपयोग करके लंबाई का अनुमान लगाना और पुष्टि करना और गैर-मानक पर्दी इकाइयों जैसे कप, चम्मच, मग आदि का उपयोग करने की क्षमता रखना।
6. आकार और संख्याओं का उपयोग करके छोटी कविताओं और कहानियों का निर्माण और पाठ करना।

Leave a Reply