हमसे जुड़ें:

Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

School Prayer – छत्तीसगढ़ के स्कूलों में दो नये प्रार्थना शामिल ।

3,083

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

अब तक शालाओं में प्रार्थना के समय राष्ट्र गान, राष्ट्रीय गीत, के साथ राजकीय गीत का गायन किया जाता था। अब छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा आदेश जारी किया गया है जिसके अनुसार-सभी स्कूलों में प्रार्थना के समय दो भजन को शामिल कर नियमित गान किये जाने का निर्देश जारी किया गया है । तो देखते हैं कौन से दो नये भजन शामिल किये गये हैं।

प्रमुख बिंदु :-

    अभी तक स्कूलों में राष्ट्र गान, राष्ट्रीय गीत, राजकीय गीत का गायन होता था अब राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के दो भजन को प्रार्थना में शामिल किया गया है :-

    छत्तीसगढ़ के स्कूलों में होने वाले प्रार्थना (School Prayer) –

    1. राष्ट्रगान – जन-गण-मन
    2. राष्ट्रीय गीत-वन्दे मातरम्
    3. राज्य गीत – “अरपा पैरी के धार महानदी हे अपार”
    4. भजन – “रघुपति राघव राजाराम”
    5. भजन – “वैष्णवजन तो तेने कहिए”
    School PrayerMP3 Download
    राष्ट्रगान – जन-गण-मन Download
    राष्ट्रीय गीत – वन्दे मातरम्Download
    राज्य गीत – “अरपा पैरी के धार महानदी हे अपार”Download
    भजन – “रघुपति राघव राजाराम”Download
    भजन – “वैष्णवजन तो तेने कहिए”Download
    School Prayer

    🌍 (School Prayer) राष्ट्रगान – जन-गण-मन

    जन गण मन अधिनायक जय हे
    भारत भाग्य विधाता।

    पंजाब सिन्ध गुजरात मराठा
    द्रविड़ उत्कल बंग।
    विंध्य हिमाचल यमुना गंगा
    उच्छल जलधि तरंग।

    तव शुभ नामे जागे
    तव शुभ आशीष मागे।

    गाहे तव जयगाथा।

    जन गण मंगलदायक जय हे
    भारत भाग्य विधाता।

    जय हे, जय हे, जय हे
    जय जय जय जय हे॥

    🌍 (School Prayer) राष्ट्रीय गीत-वन्दे मातरम्

    वन्दे मातरम्
    सुजलां सुफलाम्
    मलयजशीतलाम्
    शस्यश्यामलाम्
    मातरम्।

    शुभ्रज्योत्स्नापुलकितयामिनीम्
    फुल्लकुसुमितद्रुमदलशोभिनीम्
    सुहासिनीं सुमधुर भाषिणीम्
    सुखदां वरदां मातरम्॥ १॥

    🌍 (School Prayer) राज्य गीत – “अरपा पैरी के धार महानदी हे अपार”

    विभागीय अधिसूचना दिनांक 18/11/2019 के तहत राज्य शासन द्वारा डॉ० नरेन्द्र देव वर्मा द्वारा लिखित छत्तीसगढ़ी गीत “अरपा पैरी के धार, महानदी हे अपार” को राज्य गीत घोषित किया गया है । आदेशानुसार उक्त राज्य-गीत का गायन सभी शासकीय कार्यक्रमों के प्रारंभ में किया जाना सुनिश्चित करें।

    “अरपा पैरी के धार, महानदी हे अपार” राज्य-गीत घोषित आदेश दिनाँक 18-11-2019 – [Pdf Download]

    School Prayer
    School Prayer राज्य गीत

    छत्तीसगढ़ के स्कूलों में दो नये प्रार्थना गायन संबंधी स्कूल शिक्षा विभाग का आदेश 02-11-2021 – [Pdf Download]

    छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग आदेश जारी किया गया है जिसके अनुसार – राज्योत्सव महोत्सव – 2021 में माननीय मुख्यमंत्री जी के द्वारा घोषणा किया गया है प्रार्थना के समय प्रदेश के सभी स्कूलों में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के प्रिय भजन “रघुपति राघव राजाराम” एवं “वैष्णवजन तो तेने कहिए” का नियमित गान किया जाए।

    🌍 (School Prayer) भजन 1 -“रघुपति राघव राजा राम” :-

    रघुपति राघव राजा राम,
    पतित पावन सीता राम।
    ईश्वर आल्हा तेरो नाम,
    सबको सन्मति दे भगवान।

    रघुपति राघव राजा राम,
    पतित पावन सीता राम।

    🌍 (School Prayer) भजन 2 – “वैष्णव जन तो तेने कहिए”

    वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे ।
    पर दुःखे उपकार करे तो ये, मन अभिमान न आणे रे ॥

    वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे ।

    सकल लोकमां सहुने वंदे, निंदा न करे केनी रे ।
    वाच काछ मन निश्चळ राखे, धन धन जननी तेनी रे ॥

    वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे ।

    समदृष्टि ने तृष्णा त्यागी, परस्त्री जेने मात रे ।
    जिह्वा थकी असत्य न बोले, परधन नव झाले हाथ रे ॥

    वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे ।


    मोह माया व्यापे नहि जेने, दृढ़ वैराग्य जेना मनमां रे ।
    रामनाम शुं ताली रे लागी, सकल तीरथ तेना तनमां रे ॥

    वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे ।

    वणलोभी ने कपटरहित छे, काम क्रोध निवार्या रे ।
    भणे नरसैयॊ तेनुं दरसन करतां, कुल एकोतेर तार्या रे ॥
    वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे ।

    वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे ।
    पर दुःखे उपकार करे तो ये, मन अभिमान न आणे रे ॥


    लेखक: नरसी मेहता / नर्सी मेहता / नर्सी भगत

    FOLLOW-Edudepart

    Get real time updates directly on you device, subscribe now.

    Leave A Reply

    Your email address will not be published.