हमसे जुड़ें:

Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

Print-Rich Village/Ward/Classroom तैयार कैसे करें

912

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

How to Create a Print-Rich Village/Ward/Classroom

  • प्रिंट-रिच गाँव/वार्ड/ कक्षा तैयार करने के लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु सबसे पहले शिक्षक को प्रिंट-रिच गाँव/वार्ड को तैयार कर उसका बच्चों, नव-साक्षरों एवं समुदाय को नियमित उपयोग करने हेतु प्रेरित करना चाहिए |
  • समुदाय, शिक्षकों, पालकों एवं शिक्षा साथियों के साथ मिलकर अपने आसपास ऐसे स्थानों का चयन करना चाहिए जहाँ पर प्रिंट-रिच वातावरण के लिए सामग्री तैयार हो सके ।
  • समुदाय को भी प्रेरित करना होगा कि वे अपने दीवारों को साफ़ तैयार कर प्रिंट-रिच सामग्री लेखन हेतु उपलब्ध करवाते हुए बच्चों को सीखने सहयोग करें।
  • इस कार्य समुदाय से सहयोग लेने के साथ-साथ स्कूलों को प्रदत्त मीडिया फंड, युवा एवं इको क्लब के बजट का भी उपयोग किया जा सकता है |
  • सामग्री को एक बार तैयार करें लेकिन अच्छी क्वालिटी की सामग्री बनाए ।

Print-Rich Village/Ward/Classroom बनाने हेतु निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखें-

  • बच्चों एवं नव-साक्षरों को सीखने में सहयोग करने वाली सामग्री होना चाहिये
  • अच्छे पेंटर एवं बेहतर लेखनी वाले शिक्षक एवं विद्यार्थी को जिम्मेदारी देना चाहिए
  • शिक्षक अपने शाला संकुल बैठक आयोजित कर अपने अपने संकुल के लिए स्थानीय स्तर पर बेहतर से बेहतर डिजाइन सोचकर तैयार कर साझा कर सकते हैं.
  • इस कार्य हेतु शाला में उपलब्ध मीडिया बजट,युवा एवं इको क्लब के बजट का इस्तेमाल किया जा सकता है
  • गाँव में अलग-अलग उपयुक्त स्थलों में योग, समाचार पढने, कहानी सुनाने, पुस्तक/पठन सामग्री दान केंद्र, शाला नहीं जा रहे बच्चों के सीखने, विभिन्न कौशलों को सीखने हेतु स्थल सुरक्षित रखा जाना चाहिए.
  • वहाँ उन कार्यों से संबंधित लेखन एवं चित्र आदि बनाने का कार्य संपन्न किया जाना चाहिए ।
  • प्रिंट-रिच गाँव/वार्ड बनाने हेतु शाला संकुल स्तर पर ब्लू-प्रिंट तैयार करना चाहिए ।

Print-Rich Village/Ward/Classroom के माध्यम से सीखने के लक्ष्य

प्रिंट-रिच गाँव / वार्ड कार्यक्रम के माध्यम से कक्षा एक से तीन तक भाषा एवं गणित के लिए कुछ मूलभूत दक्षताओं की पहचान कर उनकी प्राप्ति हेतु लक्ष्य निर्धारित कर सकते हैं। इस कार्यकम से राज्य के सभी बच्चे चाहे वह शाला नियमित जा रहे हों अथवा नहीं जा रहे हों, सभी बच्चों में कम से कम निम्नलिखित आउटकम की प्राप्ति अनिवार्यता हो जाए, यह अपेक्षा है-

Print-reach-village
Print-reach-village

भाषा की बुनियाद

बच्चों को यदि पढ़ना आ जाए तो बाकी चीजे धीरे धीरे वे सीखने का कौशल हासिल कर लेते हैं। लेकिन विभिन्न सर्वे यह बताते हैं कि अधिकांश बच्चों को ठीक से पढ़ना भी नहीं आता | हमें बच्चों को पढ़ना सिखाने हेतु उनके आसपास उन्ही के सन्दर्भ में उपयोगी सामग्री पढने का अवसर देने प्रिंट-विच वातावरण उपलब्ध करवाना चाहिए | इसी उद्देश्य को लेकर पूरे प्रदेश सभी गावों/वार्डों को प्रिंट-रिच गाँव/ वार्ड बनाने का सुझाव दिया जा रहा है। बच्चों को पढ़ना सिखाने हेतु निम्नलिखित सामग्री आसपास की दीवारों में लिख सकते हैं-

वर्णमाला चार्ट-/वाक्य-

वर्णमाला चार्ट एवं पुस्तिका से हिन्दी/अंग्रेजी में बच्चों एवं समुदाय को सीखने हेतु एक बड़े क्षेत्र का चयन कर उसमें वर्णमाला चार्ट एवं वाक्य लिख सकते हैं।

शब्द दीवार-

कुछ दीवारों का चयन कर उत्समें विभिन्न सरल शब्दों को लिखा जा सकता है। बिना मात्रा वाले शब्दों से लेकर अलग अलग प्रकार के शब्दों का वर्गीकरण कर अलग अलग दीवारों में लिखकर उन्हें पढ़ने का अवसर देवें

विभिन्न स्थलों का नाम-

हमारे आसपास उपलब्ध विभिन्न महत्वपूर्ण स्थलों के नाम हिन्दी, अंग्रेजी एवं स्थानीय भाषा में लिखकर प्रदर्शित किया जा सकता है. जैसे बस स्टेंड, अस्पताल, … चौक, तालाब, ..कार्यालय, मंदिर, मस्जिद, चर्च

आज की ताजा खबर-

युवा क्लब से सूचना मंत्री या समुदाय से कुछ लोगों का चयन कर आसपास के प्रमुख समाचारों को प्रतिदिन लिखने हेतु एक बोर्ड बनाया जा सकता है जहां समुदाय को रोज अपने आसपास के समाचार पढने को मिल सकेंगे | इसकी जिम्मेदारी प्रतिमाह बदल बदल कर भी देते हुए को जानकारी एकत्र करने, लिखने आदि का अवसर दिया जा सकता है।

स्थानीय सामग्री-

बच्चों के लिए विभिन्न प्रकार की स्थानीय सामग्री, पंरपराओं का विवरण, लोकोक्ति-गुहावरों एवं अन्य जानकारियों को भी प्रदर्शित करें।

ग्रिड:

आप ग्रिड में बहुत सारे वर्ण लिखकर उसमें छिपे विभिन्न शब्दों को खोजने का काम दिया जा सकता है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.