दस्तावेज एवं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिये राष्ट्रीय कांफ्रेंस

1,668

राष्ट्रीय कांफ्रेंस का मुख्य उद्देश्य-

राष्ट्रीय कांफ्रेंस : राज्य में वर्तमान में बच्चों तथा पालकों के लिए संचालित आनलाइन योजनाओं एवं भविष्य में संचालित किये जाने वाली योजनाओं के बारे में रिपोर्ट / प्रस्तुतीकरण मुख्य सचिव महोदय के द्वारा दिया जाना है। इसका मुख्य उद्देश्य पालकों तथा बच्चों के लिए विभिन्न प्रकार के दस्तावेज एवं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को सहजता से उपलब्ध कराना है। भौतिक रूप से दस्तावेजों को बनाने में काफी समय तथा अनेक व्यावहारिक कठिनाइयां का सामना करना पड़ता है। इसे यदि आनलाइन के माध्यम से बच्चों को सुविधा प्रदान की जाये तो बेहतर होगा। इसके अलावा बच्चों के लिए पाठ्य सामग्री आनलाइन माध्यम से सुगमता से उपलब्ध हो।

दस्तावेज एवं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिये राष्ट्रीय कांफ्रेंस

राष्ट्रीय कांफ्रेंस
राष्ट्रीय कांफ्रेंस
आनलाइन योजनाओं के लिये राष्ट्रीय कांफ्रेंस Open
राष्ट्रीय कांफ्रेंस

ट्रांसफर सर्टिफिकेट, मार्कशीट –

सरकारी स्कूल में सामान्य तौर पर, मार्कशीट माइग्रेशन प्रमाणपत्र, प्रवासन प्रमाणपत्र केवल तभी प्रदान किए जाते हैं |स्थानांतरण प्रमाणपत्र तब जारी किए जाते हैं जब कोई छात्र शैक्षणिक वर्ष के दौरान किसी अन्य स्कूल में स्थानांतरण का विकल्प चुनता है। वर्तमान में, स्कूल शिक्षक अभिभावक के आवेदन के माध्यम से मांगे जाने पर स्थानांतरण प्रमाणपत्र जारी करते हैं, सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को एक ऑनलाइन मजबूत प्रणाली विकसित करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है जो आवश्यकता के अनुसार मार्कशीट के साथ ट्रांसफर सर्टिफिकेट शीघ्र उपलब्ध कराने की सुविधा प्रदान किया जा सके।

मुख्य सचिवों के तृतीय सम्मेलन अक्टूबर 2023 में…

माइग्रेशन सर्टिफिकेट –

सरकारी स्कूल में सामान्य तौर पर, मार्कशीट, माइग्रेशन प्रमाणपत्र, प्रवासन प्रमाणपत्र केवल तभी प्रदान किए जाते हैं माइग्रेशन प्रमाणपत्र छात्रों द्वारा 12वीं कक्षा की परीक्षा पूरी करने और उत्तीर्ण करने के बाद ही जारी किया जाता है। सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को एक ऑनलाइन मजबूत प्रणाली विकसित करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है जो आवश्यकता के अनुसार माइग्रेशन सर्टिफिकेट शीघ्र उपलब्ध कराने की सुविधा प्रदान किया जा सके।

मार्कशीट का सत्यापन-

विद्यार्थियों के लिए मार्कशीट सहित प्रमाणपत्रों का सत्यापन एक महत्वपूर्ण कार्य है ताकि विद्यार्थियों को अन्य संस्थानों में शिक्षा जारी रखने के लिए किसी भी प्रशासनिक बाधा से बचा जा सके। अधिकांश राज्यों ने अपने राज्य बोर्ड के सामान्य आवेदन पोर्टल का उपयोग करके मार्कशीट और प्रमाणपत्र सत्यापन सेवा को ऑनलाइन बनाया है। हालाँकि इसे व्यापक रूप से प्रचारित करने की आवश्यकता है।

परीक्षा प्रणाली –

अंतिम परीक्षा के प्रश्नपत्रों या परिणामों का पुनर्मूल्यांकन और जांच करने की एक प्रक्रिया है। इम्प्रूवमेंट परीक्षा उन छात्रों के लिए एक अवसर है जो अपने परिणाम से निराश होते हैं। ऐसे विद्यार्थी इम्प्रूवमेंट परीक्षा देकर अपने स्कोर में सुधार कर सकते है। अधिकांश राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में पुनर्मूल्यांकन का प्रावधान नहीं है। पुनर्मूल्यांकन हेतु आनलाइन आवेदन की प्रक्रिया प्रारंभ करने पर विद्यार्थियों के लिए अत्यंतक सुविधाजनक होगा।

बच्चों का शाला में प्रवेश हेतु शालाओं की साझेदारी –

उच्च कक्षा में प्रवेश के लिए स्कूलों का संयोजन शिक्षा के महत्वपूर्ण है। कक्षा 6, 9 और 11 में प्रवेश के दौरान विद्यार्थियों को एक स्कूल से दूसरे स्कूल में स्थानांतरित होने में समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इससे कई विद्यार्थियों की पढ़ाई बीच में ही छूट जाती है। स्कूलों का संयोजन करके इसे आनलाइल सुविधा प्रदान करने पर विद्यार्थियों के लिए बहुत आसानी होगी।

विद्यार्थियों का आधार रजिस्ट्रेशन –

स्कूल में अध्ययनरत अनेक विद्यार्थियों का अभी भी आधार नहीं बन पाया है। आधार न होने पर अनेक विद्यार्थी शासन द्वारा दी जाने वाली अनेक सुविधाओं के लाभ से वंचित होना पड़ता है। बिना आधार आईडी के विद्यार्थियों को दी जाने वाली सुविधाओं की निगरानी कर पाना मुश्किल है। विद्यार्थियों के आधार पंजीकरण की प्रक्रिया को और सुविधाजनक बनाने के लिए भारतीय विशिष्ट प्राधिकरण के साथ साझेदारी करने की आवश्यकता है।

शैक्षिक सर्टिफिकेट के लिए डीजीलॉकर की उपयोगिता का प्रचार-प्रसार –

डिजिलॉकर एक सुरक्षित क्लाउड-आधारित प्लेटफॉर्म है। अधिकांश राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में डिजी लॉकर का कियान्वयन पहले से ही प्रक्रिया में है। राज्य बोर्ड और सीबीएसई दसवीं और बारहवीं कक्षा के प्रमाणपत्र, मार्कशीट, अंतिम प्रमाणपत्र आदि के भंडारण के लिए डिजिलॉकर का उपयोग कर रहे हैं। डिजीलॉकर के उपयोग को सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में व्यापक रूप से उपयोगी बनाने एवं प्रचार-प्रसार की आवश्यकता है ।

गुणवत्तापूर्ण भौतिक संसाधनों की उपलब्धता –

सभी सरकारी स्कूलों में आवश्यक भौतिक बुनियादी ढांचे की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए अभी भी बहुत काम किया जाना बाकी है अभी भी अनेक सरकारी स्कूलों में शौचालय, विद्युत कनेक्शन, पीने के पानी की सुविधा, रैम्प आदि सकीय नहीं है। इसके अलावा, स्कूलों में डिजिटल बुनियादी ढांचे की गुणवत्ता में भी उल्लेखनीय सुधार की जरूरत है।

विद्यार्थियों की अधिगम क्षमता में वृद्धि हेतु प्रयास –

विद्यार्थियों के लिए आसानी से सीखने के परिणाम (Learning Outcomes ) या अधिगम क्षमता में वांछित स्तर प्राप्त करने के लिए विशेष कार्य करने की आवश्यकता है। ग्रेड-स्तरीय दक्षताओं को प्राप्त करने का एक समयबद्ध लक्ष्य निर्धारित किया जाना चाहिए। एनईपी 2020 भी यह सिफारिश करता है कि. सीखने के परिणामों की वर्तमान स्थिति जो आवश्यक है, उसके बीच के अंतर को प्रमुख सुधारों के माध्यम से समाप्त किया जाना चाहिए। शैक्षणिक सुधारों, शिक्षक भर्ती, शिक्षक युक्तिकरण और शिक्षक प्रशिक्षण (सेवापूर्व और सेवाकालीन दोनों) में सुधारों के माध्यम से सीखने के परिणामों को टेक्नालाजी का उपयोग करे बेहतर बनाया जा सकता है।

भविष्य के लिए रोडमैप –

नागरिकों के साथ योजनाओं / सेवाओं / स्कूल तक पहुंच और सेवा वितरण / स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार प्रमुख है। इसके बाद, शासन में सुधार और टेक्नालॉजी के उपयोग से चिन्हाकित किये गए क्षेत्रों में नागरिक अनुभव को बेहतर बनाने के लिए स्पष्ट रूप से एक समयबद्ध कार्य करने की आवश्यकता है ।

विचार-विमर्श के मुद्दे –

विभिन्न नागरिक केंद्रित आनलाइन योजनाओं / सेवाओं की उपयोगिता का आकलन करने के लिए विभिन्न सरकारी निकायों व नागरिकों के साथ इंटरफेस / जुडाव के बिंदुओं की पहचान करना। जिसमें-

  • इसमें सभी नागरिक-संबंधित पोर्टलों की उपयोगिता के लिए ई-समीक्षा शामिल।.
  • किसी भी सेवा का लाभ उठाने के लिए आवश्यक प्रपत्रों की समीक्षा और उनका सरलीकरण ।
  • उन आवेदनों की समीक्षा करना जिनके लिए नागरिकों को दस्तावेजों की हार्डकॉपी जमा करने की आवश्यकता होती है।
  • किसी आवेदन पर कार्रवाई के लिए आवश्यक एनओसी / दस्तावेज नागरिकों से भौतिक प्रतियां मांगने के बजाय शासन को डिजीलॉकर के माध्यम से प्राप्त किया जाना चाहिए।
  • नोटरीकरण व शपथपत्रों की आवश्यकता की समीक्षा करना और केवल वहीं बनाएँ जाना जहां उसकी स्पष्ट उद्देश्य को पूरा करते हों।.
  • सामाजिक अंकेक्षण की प्रणाली, मोबाइल पर प्रभावी ऑनलाइन नागरिक प्रतिक्रिया तंत्र, तृतीय पक्ष (Third Party) टेलीफोन नागरिक सर्वेक्षण शुरू किया जाना।
  • राज्य भर में सर्वोत्तम आनलाइन कार्यो / सुविधाओं की पहचान करना जो अनुकरणीय और विस्तार योग्य हैं।

Follow – Edudepart

edudepart.com

Get real time updates directly on you device, subscribe now.