SCHOOL CALANDER | MDM CALCULATOR | SALARY CHART

पाठ्यचर्या संबंधी अपेक्षाएँ [Curricular Requirements]

62

पाठ्यचर्या संबंधी अपेक्षाओं को पूरे देश के बच्चों को ध्यान में रख कर (प्रथम भाषा के रूप में हिन्दी पढ़ने वाले और द्वितीय भाषा के रूप में हिन्दी पढ़ने वाले, दोनों) तैयार किया गया है।

पाठ्यचर्या संबंधी अपेक्षाएँ [Curricular Requirements]

पाठ्यक्रम curriculum fixation
पाठ्यक्रम curriculum fixation

कक्षा एक से पाँच तक

  • दूसरों की बातों को रूचि के साथ और ध्यान से सुनना।
  • अपने अनुभव-संसार और कल्पना-संसार को बेझिझक और सहज ढंग से अभिव्यक्त करना।
  • अलग-अलग संदर्भों में अपनी बात कहने की कोशिश करना (बोलकर/इशारों से/साइन लैंग्वेज द्वारा/चित्र बनाकर)
  • स्तरानुसार कहानी, कविता आदि को सुनने में रूचि लेना और उन्हें मज़े से सुनना और सुनाना।
  • देखी सुनी और पढ़ी गई बातों को अपनी भाषा में कहना, उसके बारे में विचार करना और अपनी प्रतिक्रिया/टिप्पणी (मौखिक और लिखित रूप से) व्यक्त करना।
  • सुनी और पढ़ी कहानियों और कविताओं को समझकर उन्हें अपने अनुभवों से जोड़ पाना तथा उन्हें अपने शब्दों में कहना और लिखना।
  • स्तरानुसार कहानी, कविता या अनुभव के स्तर पर किसी स्थिति का निष्कर्ष या उपाय निकालना।
  • लिपि-चिन्हों को देखकर और उनकी ध्वनियों को सुनकर और समझकर उनमें सहसंबंध बनाते हुए लिखने का प्रयास करना।
  • चित्र और संदर्भ के आधार पर अनुमान लगाते हुए पढ़ना।
  • पढ़ने की प्रक्रिया को दैनिक जीवन की (स्कूल और बाहर की) जरूरतों को जोड़ना
  • जैसे- कक्षा और स्कूल में अपना नाम, पाठ्यपुस्तक का नाम और अपनी मनपसंद पाठ्यसामग्री पढ़ना।
  • सुनी और पढ़ी गई बातों को समझकर अपने शब्दों में कहना और लिखना।
  • चित्रों को स्वयं की अभिव्यक्ति का माध्यम बनाना।
  • पुस्तकालय और विभिन्न स्रोतों (रीडिंग कॉर्नर, पोस्टर, तरह-तरह की चीजों के रैपर, बाल पत्रिकाएँ, साइन लैंग्वेज, ब्रेल लिपि आदि) से अपनी पसन्द की किताबें/सामग्री ढूँढकर पढ़ना।
  • अलग-अलग विषयों पर और अलग-अलग उद्देश्यों के लिए लिखना।
  • अपनी कल्पना से कहानी, कविता आदि लिखना।
  • विषय-सामग्री के माध्यम से संदर्भ के अनुसार नए शब्दों का अर्थ जानना।
  • मनपसंद विषय का चुनाव करके लिखना।
  • विभिन्न विराम चिन्हों का समझ के साथ प्रयोग करना।
  • संदर्भ और लिखने के उद्देश्य के अनुसार उपयुक्त भाषा (शब्दों, वाक्यों आदि) का चयन और प्रयोग करना।
  • नए शब्दों को चित्र शब्दकोश/शब्दकोश में देखना ।
  • भाषा की लय और तुक की समझ होना तथा उसका प्रयोग करना।
  • घर और विद्यालय की भाषा के बीच संबंध बनाना।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.