Learning-Outcomes
Learning-Outcomes

कक्षा 6 गणित में सीखने के प्रतिफल (Class 6 Mathematics Learning Outcomes)

कक्षा 6 गणित में सीखने के प्रतिफल (Class 6 Mathematics Learning Outcomes)

Learning-Outcomes
Learning-Outcomes
  • बड़ी संख्याओं से संबंधित प्रश्न उचित संक्रियाओं (योग, अंतर, गुणा व भाग) के प्रयोग द्वारा हल कर सकता है।
  • संख्याओं का सम, विषम, अभाज्य, सह- अभाज्य संख्याओं आदि के रूप में वर्गीकरण (पैटर्न के आधार पर) कर सकता है।
  • विशिष्ट स्थिति में महत्तम समापवर्तक तथा लघुत्तम समापवर्त्य का उपयोग कर सकता है।
  • पूर्णाकों के योग तथा अंतर से संबंधित प्रश्नों को हल कर सकता है।
  • पैसा, लंबाई, तापमान आदि से संबंधित अलग-अलग परिस्थितियों में भिन्नों तथा दशमलवों का उपयोग कर सकता है
    • जैसे – 7सही1/2 मीटर कपड़ा, दो स्थानों के बीच की दूरी 112.5 किलोमीटर है आदि ।
  • भिन्नों/दशमलवों के योग व अंतर पर आधारित दैनिक जीवन की समस्याओ को हल कर सकता है।
  • किसी स्थिति के सामान्यीकरण हेतु चर राशि का विभिन्न संक्रियाओं के साथ प्रयोग करता है जैसे तथा 3 इकाई भुजा के आयत का परिमाप 2(x+3) इकाई होगा।
  • अनुपात का प्रयोग कर विभिन्न राशियों की तुलना करता है। जैसे किसी कक्षा में लड़कियों एवं लड़कों की संख्या का अनुपात 3 : 2 है।
  • इबारती प्रश्नों के हल करने में ऐकिक नियम का उपयोग करता है।
    • जैसे यदि एक दर्जन कापियों की कीमत दी गई हो तो 1 कापी की कीमत ज्ञात कर 7 कापियों की कीमत ज्ञात कर सकता है।

Class 6 Mathematics Learning Outcomes

  • ज्यामितीय अवधारणाओं जैसे रेखा, रेखाखण्ड, खुली एवं बंद आकृतियाँ, कोण, त्रिभुज, चर्तुभुज, वृत आदि को अपने परिवेश के उदाहरणों के माध्यम से समझा सकता है।
  • कोणों के बारे में अपनी समझ निम्नानुसार व्यक्त कर सकता है-
    1. -अपने परिवेश में कोणों की पहचान कर सकता है।
    2. -कोणों को उनके माप के आधार पर वर्गीकृत कर सकता है।
    3. -कोण 45,90,180° का संदर्भ कोण के रूप में उपयोग कर कोणों के माप का अनुमान लगा सकता है।
  • रैखिक सममिति के बारे में अपनी समझ निम्नानुसार व्यक्त कर सकता है
    1. – उन द्विविमीय 2D) आकृतियाँ की पहचान कर सकता है, जो एक या अधिक रेखाओं के सापेक्ष सममित है। –
    2. द्विआयामी सममित आकृतियों की रचना कर सकता है।
  • त्रिभुजों को उनके कोण तथा भुजाओं के आधार पर वर्गीकृत कर सकता है।
    • जैसे – भुजाओं की लंबाई के आधार पर विषमबाहु त्रिभुज, समद्विबाहु त्रिभुज, समबाहु त्रिभुज आदि।
  • चतुर्भुजों को उनके कोण तथा भुजाओं के आधार पर वर्गीकृत कर सकता है।
  • अपने परिवेश से विभिन्न 3D वस्तुओं की पहचान कर सकता है। जैसे – गोला, घन, घनाभ, बेलन, शंकु आदि।
  • 3D वस्तुओं / आकृतियों के कोर, शीर्ष, फलक का वर्णन कर उदाहरण प्रस्तुत कर सकता है।
  • परिवेश की आयताकार वस्तुओं का परिमाप और क्षेत्रफल ज्ञात कर सकता है।
    • जैसे- कक्षा का फर्श, चाक के डब्बे की उपरी सतह की परिमिति तथा क्षेत्रफल।
  • दी गई/ संकलित की गई जानकारियों जैसे- विगत छ: माह में किसी परिवार के विभिन्न सामाग्रियों पर हुए खर्च को सारणी, चित्रारेख, दण्डारेख के रूप में प्रदर्शित कर उसकी व्याख्या कर सकता है।

Leave a Reply