SCHOOL CALANDER | MDM CALCULATOR | SALARY CHART

स्वच्छता पखवाड़ा का आयोजन 2023-24

4,038

स्वच्छता पखवाड़ा : गतिविधि कैलेंडर अनुरूप प्रतिवर्ष 1 से 15 सितंबर 2022 तक स्वच्छता पखवाड़ा का आयोजन राज्य के समस्त शालाओं और शिक्षण संस्थाओं में किया जाना है। स्वच्छता पखवाड़ा में विद्यार्थियों, शिक्षकों, अभिभावकों, स्थानीय लोगों व जन प्रतिनिधियों आदि का पूरे मनोयोग से भागीदारी सुनिश्चित करें।

स्वच्छता पखवाड़ा का आयोजन।

स्वच्छता पखवाड़ा
स्वच्छता पखवाड़ा

समस्त शालाओं हेतु शाला के प्रमुख प्राचार्य / प्रधान पाठक संस्था के लिए नोडल होंगे, जो समस्त गतिविधियों का संचालन करेंगे। स्वच्छता पखवाड़ा के समस्त गतिविधियों का आयोजन कोविड-19 के प्रोटोकाल को ध्यान में रखते हुए भौतिक / वर्चुअल रूप से किया जावे। स्वच्छता पखवाड़े का आयोजन भारत सरकार द्वारा प्राप्त दिशानिर्देश गतिविधियों का आयोजन किया जाना है। दैनिक विषयानुसार पखवाड़ा आयोजन अवधि में कार्यक्रम का फोटोग्राफ विडियो तथा गतिविधियों की जानकारी गुगलशीट एवं गुगल ड्राईव में देना है जिससे कि भारत सरकार के द्वारा दी गई Google Tracker में अपडेट हो सके।

स्वच्छता पखवाड़ा आयोजन संबंधीClick Here

स्वच्छता शपथ दिवस:-

  1. सभी विद्यार्थी एवं शिक्षकों द्वारा वर्चुअल / भौतिक रूप से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए स्वच्छता का शपथ ग्रहण करना ।
  2. विद्याथियों द्वारा स्वच्छता पर अपने विचारों का आदान-प्रदान।
  3. स्वच्छता जागरूकता के संदेशों को विभागों / संस्थाओं / शालाओं के वेबसाईट पर डाला जाना।

स्वच्छता जागरूकता दिवस:-

  • शाला प्रबंधन समिति / शाला विकास एवं प्रबंधन समिति / पालक शिक्षक संघ के साथ वर्चुअल बैठक आयोजित किया जाना तथा बैठक में शाला और घरों में स्वच्छता एवं साफ-सफाई का महत्व, साबुन से हाथ धुलाई, 3T ( Trace, Testing and Treat) लक्षण, परीक्षण एवं उपचार के लिए उन्हें प्रेरित और प्रोत्साहित किया जाना।
  • शिक्षकों के द्वारा शाला स्वच्छता का अवलोकन एवं स्वच्छता सुविधाओं में सुधार एवं गुणवत्ता लाने हेतु प्रस्ताव / योजना तैयार किया जाना।
  • शाला के शौचालयों, मध्यान्ह भोजन की रसोईघरों, कक्षाओं, पंखे, दरवाजे, खिड़कियों, शाला प्रांगण और शाला के आस-पास के क्षेत्र की साफ-सफाई किया जाना शाला में उपलब्ध पेयजल स्त्रोत का लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के माध्यम से जल की जांच कराया जाना।
  • टूटे फूटे फर्नीचर, अनुपयोगी उपकरण, खराब गाड़ियों आदि की मरम्मत अथवा नियमानुसार अपलेखन कर शाला परिसर से हटाया जाना ।
  • दैनिक सॉफ सफाई, शौचालय एवं मूत्रालय का उपयोग, जल सुविधा का उपयोग वेंटिलेशन, कचरा प्रबंधन, संचालन एवं प्रबंधन आदि के संबंध में स्थानीय जन प्रतिनिधियों से चर्चा किया जाना। इसके अलावा चर्चा में पर्याप्त साफ और पृथक पृथक बालिका शौचालय की उपलब्धता को भी सामिल किया जा सकता है।

समुदाय तक पहुँच दिवस:-

  • स्वच्छता और सुरक्षा आदतों का बच्चों में प्रोत्साहित किये जाने हेतु स्वच्छता विषय पर पालकों के साथ सेमिनार (वर्चुअल / छोटे समुह में) आयोजन किया जाना।
  • शिक्षकों और विद्यार्थियों द्वारा स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ स्वच्छता पखवाडा के प्रचार कोविड के अनुरूप व्यवहार और वैक्सीनेशन को प्रोत्साहित करना।

हरित शाला पहल दिवस:-

  • बच्चों को जल संरक्षण और प्राकृतिक जल संसाधनों को बचाने हेतु शिक्षित किया जा सकता है।
  • प्रत्येक बच्चा प्रतिदिन कम से कम एक लीटर पानी बचाये तथा घर और स्कूल में सही ढंग से जल का उपयोग करते हुए जल की बर्बादी को कम करें।

Download

स्वच्छता सहभागिता दिवस:-

  • जिला / विकासखण्ड / संकुल स्तर पर कोविड प्रोटोकाल को ध्यान में रखते हुए स्वच्छ और सुव्यवस्थित भवन और शौचालय पर प्रतियोगिता आयोजित किया जाना।
  • स्वच्छता पर चित्रकला, कविता लेखन, स्लोगन लेखन आदि पर प्रतियोगिताआयोजित करना।
  • स्वच्छता पर पत्र / निबंध लेखन प्रतियोगिता

हाथ धुलाई दिवस:-

  • दैनिक जीवन में सही हाथ धुलाई की आवश्यकता पर जागरूकता पैदाकरना।
  • बच्चों को भोजन के पूर्व व पश्चात साबुन से हाथ धोने के सहीतरीके / क्रम / समय आदि सीखाया जाना।
  • दिव्यांग बच्चों के लिए बाधा रहित पेयजल एवं शौचालय सुविधा का पहुंचसुनिश्चित करना।
  • बच्चों को जल के अपव्यय को रोकना सिखाना।
  • जल से हाथ धुलाई यूनीट को स्कूल गार्डन से जोड़ना ।
  • बच्चों को जलजनित बिमारियों, पेयजल का सुरक्षा पूर्ण उपयोग सिखाना, ताकि हाथ और मुंह की सही सफाई की आदत बन सके।

व्यक्तिगत स्वच्छता दिवस:-

  • बच्चों/कर्मचारियों और अन्य को स्वच्छता प्रबंधन के लिए Audio Visualकार्यक्रम दिखाया जाना ।
  • बच्चों को नाखून काटने के सही तरीके और नाखून साफ रखना, साफ पानी से रोज नहाना, साफ कपड़े पहनना, खुले में नहीं थूकना, जूते और चप्पल पहनना आदि |
  • बच्चों को शौचालय और पेयजल व्यवस्था का स्वच्छ तरीके से उपयोगकरना सीखाना ।
  • बच्चों को दिन में दो बार दांतों में ब्रश करने के महत्व से अवगत कराना और इसे आदतों में लाना।

स्वच्छता स्कूल प्रदर्शनी दिवस:-

  • शालाओं में स्वच्छता प्रदर्शनी का आयोजन किया जा सकता है। जिसमें स्वच्छता संबंधी फोटो, चित्र, नारे, मॉडल आदि का प्रदर्शन किया जावे। प्रदर्शनी में पालकों व समुदाय के सदस्यों को निमंत्रण दिया जा सकता है।
  • विभाग के web portal पर पखवाड़े के उद्देश्य से संबंधित संदेश आदि केElectronic बेनर रखे जा सकते हैं। प्रचार और जागरूकता हेतु समाचारपत्र, Social Media व Electronic Media का उपयोग किया जा सकता है।
  • कुछ प्रदर्शनी का दस्तावेजीकरण किया जा सकता है।
  • कचरा प्रबंधन के लिए स्थानीय पुनः उपयोग में लाये जा सकने वालेवस्तुओं से कलाकृतियों (Art from waste) को बनाया जा सकता है। जैसे कलात्मक कचरा पेटी को स्थानीय वस्तुओं से तैयार किया जा सकता है।

स्वच्छता कार्ययोजना दिवस:-

  • बच्चे, पालक और स्थानीय लोगों को शाला के शाला प्रबंधन समिति / शाला विकास एवं प्रबंधन समिति के द्वारा स्वच्छता कार्ययोजना के प्रति जागरूकता पैदा करना |
  • शाला में स्वच्छता पखवाड़ा गतिविधियों पर चर्चा करने हेतु बाल सांसद / शाला केबिनेट की छोटे समुह में बैठक आयोजित करना।
  • सामुदायिक सदस्यों और विद्यार्थियों से स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत शामिल किये जा सकने वाले नवीन गतिविधियों के संबंध में सुझाव प्राप्त करना और इन सुझावों को शिक्षा मंत्रालय को प्रेषित करना।

पुरस्कार वितरण दिवस:-

  • प्रतियोगिताओं में सहभागी बच्चों, शिक्षकों और पालकों को पेंटिंग, निबंध, वाद-विवाद, क्वीज, स्लोगन, और कलाकृति माडल निर्माण आदि के लिए पुरस्कृत करना। (पुरस्कार वितरण का वर्चुअल आयोजन करना)
  • समस्त शाला / शैक्षणिक संस्था में स्वच्छता पखवाड़े के दौरान की गई गतिविधियों एवं कार्यों की समीक्षा कर उनमें से उत्कृष्ट गतिविधियों को जिला / राज्य की website पर अपलोड करना ।

स्वच्छता शपथ दिवस

मैं यह शपथ लेता / लेती हूँ कि मैं स्वच्छता के प्रति सजग रहूँगा / रहूँगी मैं न तो स्वयं गंदगी करूँगा / करूँगी न किसी और को करने दूंगा / दूंगी |मैं अपने परिवारजनों तथा मित्रजनो को गंदगी न फैलाने के विषय में जागरूक करने का प्रयास करूंगा / करूंगी तथा गंदगी के कारण होने वाली स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की जानकारी देकर स्वच्छता रखने के लिए प्रेरित करूंगा / करूंगी।मैं अपने घर, कार्यालय एवं सार्वजनिक स्थानों को गंदगी से मुक्त रखकर देश को स्वच्छ रखने की शपथ लेता / लेती हूं ।

edudepart.com

Get real time updates directly on you device, subscribe now.