सुघ्घर पढ़वईया योजना

सुघ्घर पढ़वईया योजना

सुघ्घर पढ़वईया योजना

अपने विद्यालय को उत्कृष्ट बनाने अपने विद्यार्थियों को उन्नति और प्रगति के नित नये सोपान तय करना चाहते हैं उनकी स्पर्धा अन्य से नहीं बल्कि स्वयं से ही है ऐसे शिक्षकों के लिये पुरस्कार उनके विद्यालय में बेहतर संसाधन व बच्चों का सर्वांगीण विकाश ही उनका प्रमाणपत्र है|

सुघ्घर पढ़वईया योजनाClick Here
सुघ्घर पढ़वईया योजना

कार्यक्रम का उद्देश्य

  • यह पूरी तरह से स्वेच्छा और स्वप्रेरणा पर आधारित योजना है जिसमें कोई भी शिक्षक शामिल हो सकते हैं |
  • स्वप्रेरणा से अच्छे कार्य एवं बेहतर प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों को प्रोत्साहित कर सकेंगे,
  • उन्हें देखकर और शिक्षक भी अच्छे कार्य करने के लिए प्रेरित हो सकेंगे,
  • अधिक से अधिक शिक्षक सकारात्मक कार्य करने हेतु टीम बनाकर बेहतर माहौल बनाने में सफल हो सकेंगे,

सुघ्घर पढ़वइया योजना कि रुपरेखा

  • इस योजना का एक वेब पोर्टल होगा|
  • पोर्टल पर कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के लिये न्यूनतम अकादमिक कौशल के मापदंड उपलब्ध होंगे|
  • योजना में भाग लेने वाले स्कूल सभी विद्यार्थियों में कक्षा अनुरूप न्यूनतम अकादमिक कौशल विकसित करने का प्रयास करेंगे|
  • जो स्कूल इस योजना में शामिल होना चाहते हैं, वे स्कूल के सभी शिक्षकों की बैठक में निर्णय लेकर वेब – पोर्टल पर आवेदन कर सकते है|
  • पोर्टल पर कक्षा अनुरूप अकादमिक कौशल विकसित करने के लिये पैडॉगाजी, प्रशिक्षण, टी.एल.एम. आदि के संसाधन उपलब्ध होंगे|
  • पोर्टल पर अन्य स्कूलों द्वारा किये गये नावाचारों की जानकारी भी होगी और प्रदेश के तथा प्रदेश के बाहर के स्कूलों के केस स्टडी भी होंगी.
  • यदि स्कूल के शिक्षक कोई विशिष्ट प्रशिक्षण लेना चाहेंगे तो वे विभाग से उस प्रशिक्षण का अनुरोध कर सकेगे और वह प्रशिक्षण उन्हें उपलब्ध कराया जायेगा|
  • स्कूलों के अनुरोध पर उन्हें अन्य अकादमिक संसाधन भी दिये जा सकेंगे|
  • पोर्टल पर कक्षा अनुरूप अकादमिक कौशलों का स्व- आंकलन करने का टूल भी उपलब्ध होगा जिसका उपयोग करके शिक्षक अपने स्कूल की प्रगति का स्व-आंकलन कर सकेंगे|

सुघ्घर पढ़वईया योजना का प्रमाणीकरण

  • योजना में शामिल स्कूल जब स्व-आंकलन से संतुष्ट हो जायें कि उनके सभी विद्यार्थियों में कक्षा अनुरूप अकादमिक कौशल विकसित हो गये है, तो वे वेब पोर्टल पर थर्ड पार्टी आंकलन के लिये आवेदन कर सकेंगे|
  • संचालक लोक शिक्षण द्वारा इन स्कूलों के थर्ड पार्टी आंकलन में लिये किसी अन्य विकासखंड के शिक्षकों का एक दल बनाया जायेगा|
  • संचालक लोक शिक्षण द्वारा बनाया गया दल संबंधित स्कूल के साथ समन्वय करके थर्ड पार्टी आंकलन के लिये तिथि निश्चित करेगा, और निश्चित तिथि को उस स्कूल में जाकर उसका आंकलन करेगा|
  • थर्ड-पार्टी आंकलन में एक से अधिक दिन भी लग सकते हैं.
  • थर्ड-पार्टी आंकलन में सर्वप्रथम दर्ज संख्या के विरुध्द उपस्थिति देखी जायेगी और उपस्थिति 98% से कम होने पर थर्ड-पार्टी आंकलन नहीं किया जायेगा.
  • स्कूल के सभी विद्यार्थियों का आंकलन योजना के लिये स्वीकार किये गये समस्त अकादमिक कौशलों के लिये किया जायेगा और कम से कम 95% प्रतिशत विद्यार्थियों में कक्षा अनुरूप अकादमिक कौशल होने पर ही उस कक्षा के लिये और उस अकादमिक कौशल के लिये स्कूल को 1 अंक मिलेगा| 95% से कम विद्यार्थियों में कक्षा अनुरूप न्यूनतम अकादमिक कौशल मिलने पर उस कक्षा और अकादमिक कौशल के लिये 0 अंक मिलेगा|
  • इस प्रकार स्कूल की समस्त कक्षाओं के लिये समस्त अकादमिक कौशलों हेतु प्राप्तांकों के आधार पर स्कूल का प्रमाणीकरण किया जायेगा|
    • 90% या उससे अधिक अंक मिलने पर सुघ्घर पढ़वईया प्लेटिनम,
    • 85% या उससे अधिक परंतु 90% से कम अंक मिलने पर सुघ्घर पढ़वईया गोल्ड और
    • 80% या उससे अधिक परंतु 85% से कम अंक मिलने पर सुघ्घर पढ़वईया सिल्वर का प्रमाणपत्र दिया जायेगा|
  • जिस स्कूल को प्रमाण पत्र मिलेगा, उस स्कूल में पढ़ाने वाले सभी शिक्षकों को भी प्रमाण पत्र मिलेगा|
  • प्रमाणीकरण की घोषणा थर्ड पार्टी आंकलन के तत्काल बाद वेब-पोर्टल पर कर दी जायेगी और प्रमाणपत्र स्वतंत्रता दिवस तथा गणतंत्र दिवस के अवसर पर समारोहपूर्वक प्रदान किया जायेगा|
  • सुघ्घर पढ़वईया प्लेटिनम पाने वाले स्कूलों को एक लाख रुपये, सुघ्घर पढ़वईया गोल्ड पाने वाले स्कूलों को पचास हज़ार रुपये एवं सुघ्घर पढ़वईया सिल्वर पाने वाले स्कूलों को पच्चीस हज़ार रुपये स्कूल के विकास के लिये अनटाइड फंड के रूप में दिये जायेंगे जिसका उपयोग स्कूल के शिक्षक पालक समिति की सहमति से स्कूल के विकास के किसी भी कार्य में कर सकेंगे|
  • यह योजना राज्य के सभी शासकीय प्राथमिक एवं मिडिल स्कूलों के लिये खुली है|
  • योजना में शामिल होने की कोई अंतिम तिथि नहीं है| स्कूल के शिक्षक आपस में राय करके कभी भी योजना शामिल हो सकते हैं|
  • स्कूलों की प्रतिस्पर्धा एक-दूसरे से नहीं बल्कि स्वयं से ही है| सभी स्कूल प्रयास करके सुघ्घर पढ़वईया प्लेटिनम प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकते हैं|
  • स्कूलों के सभी शिक्षकों को साथ मिलकर स्कूल के सभी विद्यार्थियों में अकादमिक कौशल विकसित करने का प्रयास करना है| प्रमाणपत्र के लिये पात्रता तभी होगी तब पूरा स्कूल प्रमाणपत्र का पात्र हो| किसी एक शिक्षक, एक विद्यार्थी या एक कक्षा के लिये प्रमाणपत्र नहीं होगा|
  • यदि कोई स्कूल सुघ्घर पढ़वईया सिल्वर या गोल्ड प्रमाणपत्र प्राप्त कर लेता है तो वह स्कूल आगे और प्रयास करके सुघ्घर पढ़वईया गोल्ड या सुघ्घर पढ़वईया प्लेटिनम प्रमाणपत्र भी प्राप्त कर सकता है, इस योजना में निरंतर प्रगति करने का प्रयास होगा|
  • जो स्कूल योजना में शामिल होंगे उन्हें लक्ष्य प्राप्ति के लिये अनुरोध करने पर (ऑन-डिमांड) प्रशिक्षण तथा अन्य संसाधन उपलब्ध कराये जायेंगे|
  • जिन संकुलों के 90% से अधिक स्कूल सुघ्घर पढ़वईया ( प्लेटिनम, गोल्ड या सिल्वर, किसी भी स्तर का ) प्रमाणपत्र प्राप्त कर लेंगे उन्हें सुघ्घर पढ़वईया संकुल का प्रमाणपत्र दिया जायेगा| इसी प्रकार जिस विकासखंड के 90% से अधिक स्कूल सुघ्घर पढ़वईया (प्लेटिनम, गोल्ड या सिल्वर, किसी भी स्तर का ) प्रमाणपत्र प्राप्त कर लेंगे, उन्हें सुघ्घर पढ़वईया विकास खंड का प्रमाणपत्र दिया जायेगा|

सुघ्घर पढ़वईया योजना का लाभ

  • इस कार्यक्रम में सभी को एक दूसरे के साथ मिलकर एक टीम के रूप में काम करने का अवसर मिलेगा|
  • यदि किसी की वजह से स्कूल के अंक कम होते हैं जो अन्य सभी मिलकर एक टीम के रूप में स्कूल के अंक सुधारने की दिशा में काम करेंगे|
  • ऐसे में सभी मिलकर एक दूसरे को सहयोग देंगे और साथ मिलकर आगे बढ़ने की संस्कृति विकसित होगी|
  • टीमवर्क के माध्यम से सफलता का जश्न मनाने के अवसर मिलेगा|

बेहतर कार्य करने हेतु एक स्पष्ट टार्गेट की उपलब्धता

  • इस कार्यक्रम के अंतर्गत तैयार टूल के आधार पर स्कूलों को बेहतर प्रदर्शन करने हेतु स्पष्ट टार्गेट दिखाई देता है|
  • स्कूलों को अपने यहाँ सीखने का वातावरण बनाने हेतु आवश्यक कार्यक्षेत्र के साथ-साथ शिक्षकों को अपने अपने विषय में प्रत्येक बच्चे द्वारा बेहतर प्रदर्शन कर सकने हेतु विशेष फोकस के साथ काम करने हेतु प्रेरित किया जा सकेगा|
  • सामने टार्गेट होने पर कार्य करना आसान हो जायेगा|

निष्क्रिय साथियों को भी बेहतर प्रदर्शन हेतु दबाव

जब अधिक से अधिक साथी इस कार्यक्रम से जुड़ने लगेंगे और यह देखने में आयेगा कि कुछ निष्क्रिय साथियों की वजह से उनके क्षेत्र में इस योजना से जुड़ने में वे पीछे हो रहे हैं तो सभी सकारात्मक विचार वाले साथी ऐसे निष्क्रिय साथियों को भी काम करने एवं योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए प्रेरित कर सकेंगे और साथ ही सभी को काम करने एवं उपलब्धि में सुधार के लिए मिलकर आगे बढ़ सकेंगे, स्वप्रेरणा से कार्य करने की संस्कृति विकसित होगी|

सकारात्मक विचार वाले साथियों को जुड़ने का अवसर

  • सकारात्मक विचार वाले शिक्षकों को आपस में जुड़ने के लिए एक प्लेटफोर्म मिल सकेगा|
  • अभी हमारे बहुत से शिक्षक साथी बेहतर कार्य करने की मंशा होने के बावजूद अपने अन्य साथियों द्वारा ताना देने या मजाक उड़ाने की वजह से आगे आकर कुछ करने से झिझकते हैं|
  • यहाँ अच्छे कार्य करने की मानसिकता से विभाग में कार्य करने वाले साथी आपस में जुड़कर अपने जैसे अन्य साथियों को जुड़ने हेतु प्रेरित कर सकेंगे|
  • अच्छे कार्य करने की मानसिकता वाले साथियों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो सकेगी|

स्वप्रेरणा से बेहतर प्रदर्शन करने वालों को जोड़ने की पहल

अच्छे कार्य की मंशा अच्छा परिणाम देने के लिये पर्याप्त नहीं है| अक्सर हम यह भूल जाते हैं कि हमारा लक्ष्य बच्चों को सिखाना और बच्चों में सीखने की क्षमता विकसित करना है| बहुत सारे साथी पढ़ाने में नवाचार कर रहे हैं, परंतु अब समय है कि हम अपने नवाचारों पर मोहित होना बंद करके उनकी उपयोगिता पर विचार करें| अच्छा पढ़ाने की उपयोगिता विद्यार्थियों के द्वारा कक्षा अनुरूप अकादमिक कौशल सीखने में ही है| आज की आवश्यकता कक्षा अनुरूप आकादमिक कौशल विकसित करने की है|

विभागीय अधिकारियों द्वारा अपने अपने क्षेत्र में अधिक से अधिक शालाओं को बेहतर शालाओं के रूप में विकसित करने की जवाबदेही लेने से सरकारी स्कूलों की छवि में अप्रत्याशित सुधार दिखाई देगा और हमारे सरकारी स्कूल असरकारी प्रभाव दिखाने में सफल हो सकेंग|

FOLLOW – Edudepart.com

शिक्षा जगत से जुड़े हुए सभी लेटेस्ट जानकारी के लिए Edudepart.com पर विजिट करें और हमारे सोशल मिडिया को जॉइन करें। शिक्षा विभाग द्वारा जारी किये आदेशों व निर्देशों का अपडेट के लिए हमें सब्सक्राइब करें।

Please follow and like us:
Twitter
Visit Us
Follow Me
सुघ्घर पढ़वईया योजना
सुघ्घर पढ़वईया योजना

You cannot copy content of this page

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial