You are currently viewing कक्षा 1 से 8 तक आकलन हेतु प्रश्न पत्र का निर्माण
Necessary guidelines regarding implementation of assessment

कक्षा 1 से 8 तक आकलन हेतु प्रश्न पत्र का निर्माण

सत्र 2021-22 में कक्षा 1 से 8 तक बच्चों के प्रगति के आकलन हेतु प्रश्न पत्र का निर्माण किस प्रकार किया जाना चाहिए इस पोस्ट में हम विस्तार से चर्चा करेंगे।

कक्षा 1 से 8 तक आकलन हेतु प्रश्न पत्र का निर्माण

  • कक्षा 3 से 8 तक प्रत्येक विषय के 3 खण्ड अ, ब एवं स होंगे।
  • प्रत्येक विषय के प्रश्न पत्र में कुल प्रश्नों की संख्या 17 होगी ।
  • प्रत्येक कक्षा के प्रत्येक विषय में 01 प्रश्न पत्र बनाया जाएगा, जिसमें 03 खण्ड होंगे।
  • खण्ड अ में 30 अंक, खण्ड ब में 12 अंक, खण्ड स में 08 अंक निर्धारित हैं।
  • बेसलाइन आकलन खण्ड अ से ही किया जाएगा यदि विद्यार्थी खण्ड अ में 33 प्रतिशत से कम अंक प्राप्त करता है तो खण्ड ब एवं खण्ड स से विद्यार्थियों का कक्षा स्तर निर्धारित किया जाएगा।
  • ग्रेड का निर्धारण खण्ड अ के प्राप्तांकों पर किया जाएगा।

प्रश्न पत्र का प्रारूप

(बेसलाइन, मिडलाइन एवं एंडलाइन)

कक्षाखंड अखंड बखंड स
अंक301208
प्रश्नों की संख्या100403

खण्ड अ में

जिस कक्षा की परीक्षा लेनी है उसी के प्रश्न होंगे।

खण्ड ब में

इस खण्ड में निर्धारित कक्षा से 2 स्तर नीचे की कक्षा के प्रश्न होंगे।

खण्ड स में

खण्ड ब से 2 स्तर नीचे की कक्षा के प्रश्न होंगे।

कक्षा 1 से 8 तक आकलन हेतु प्रश्न पत्र का निर्माण
कक्षा 1 से 8 तक आकलन हेतु प्रश्न पत्र का निर्माण
  • उपरोक्त नियम से कक्षा 5 से 8 तक के प्रश्न पत्रों का निर्माण किया जाएगा।
  • कक्षा 4 एवं उससे नीचे की कक्षाओं के लिए खण्ड ब और खण्ड स में 1-1 स्तर नीचे के प्रश्नों का समावेश किया जाएगा।
  • कक्षा 2 के प्रश्न पत्र में अ और ब केवल 2 ही खण्ड होंगे।
  • कक्षा 1 ली के प्रश्न पत्र में कोई खण्ड नहीं होगा।
  • सेतु पाठ्यक्रम पर आधारित बेसलाइन आकलन में भी इन्हीं नियमों का पालन किया जाएगा।
  • कक्षा 1 के बच्चों का हिंदी, गणित एवं अंग्रेजी का बेसलाइन आकलन उनके पूर्व ज्ञान के आधार पर गतिविधि आधारित/मौखिक/क्रिएटिव वर्क जैसे- हिंदी में कविता सुनाना, अभिनय करना, चित्र बनाना।
  • गणित विषय में छोटा-बड़ा छाँटना, कंकड़ पत्थर एकत्रित करना तथा अंग्रेजी में दैनिक जीवन में उपयोग आने वाली अंग्रेजी शब्दों का उपयोग करना आदि।

Leave a Reply