सम्पर्क / Feedback

Give Feedback us 👇

Feedback

Connected with us 👇

WhatsApp 1

WhatsApp 2

WhatsApp 3

WhatsApp 4

WhatsApp 5

WhatsApp 6

WhatsApp 7

WhatsApp 8

WhatsApp 9

WhatsApp 10

WhatsApp 11

WhatsApp 12

WhatsApp 13

WhatsApp 14

WhatsApp 15

WhatsApp 16

WhatsApp 17

WhatsApp 18

WhatsApp 19

WhatsApp 20

Telegram Channel

Telegram Group

शिक्षा विभाग से जुड़ी महत्वपूर्ण आदेश व निर्देश का PDF यदि हमारे वेब पोर्टल में मौजूद नहीं है और आपके पास है तो कृपया निम्न जीमेल पर Email करें. ताकि हम भी उसे सर्वहिताय सुरक्षित रख सकें.

2 thoughts on “सम्पर्क / Feedback”

  1. सन 1780 के पहले क्या भारतीय शिक्षा का कोई इतिहास नहीं है? कृपया बताएं।🙏

  2. शिक्षा नीति 2020 के सफल क्रियान्वयन के लिए शिक्षा के भाषाई पाठ्यक्रम मे नैतिक मूल्य मानवीय मुख्य ,व्यक्तित्व विकास ,चरित्र निर्माण के आवश्यक तत्व पर आधारित कहानी कविता को पाठ्यक्रम मे शामिल करना अति आवश्यक है ।

    शिक्षा से जुड़े सभी शिक्षक अधिकारी को व्यक्तित्व विकास एवं चरित्र निर्माण के आवश्यक तत्व पर आधारित पाठ्यक्रम से उन्हें प्रशिक्षित करने की जरूरत है ।

    शिक्षा को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए विभागीय आदेशों का पालन सुनिश्चित हो विभागीय आदेश है कि पांच वर्ष के प्रशासनिक अनुभव वाले प्राचार्य को ही विकास खंड शिक्षा अधिकारी के रूप में पदस्थ करने का प्रावधान है किन्तु खेद जनक हालत है कि बेग संस्कृति से व्याख्याता विकास खंड शिक्षा अधिकारी के रूप में प्रभारी है ।

    विभागीय आदेश है कि संकुल समन्वयक को तीन कालखंड पढ़ाने के बाद ही अन्य दायित्व का निर्वहन करेगे किन्तु खेद जनक हालत है कि नियमों का पालन हो ही नहीं रहा है।

    शिक्षा मे चाटुकार अयोग्य लोगो की पदस्थापना होने से शिक्षा मे नित नए प्रयोग हो रहे है शिक्षक मे पढ़ने के अलावा केवल एप में जानकारी अपलोड करना ही रह गया है ।शिक्षको का मोबाइल मे ज्यादा समय लग रहा है अधिकारी शिक्षक को यंत्र से समझ लिए है। नित नए नए प्रयोग शिक्षा मे बंद होना चाहिए ।
    अधिकारी निरीक्षण कम शिक्षक को पकड़ने ज्यादा जा रहे है जो नहीं जाते है उनको कोई असर नहीं पड़ रहा है।

    शिक्षा का उद्देश्य बच्चो का सर्वागिण विकास करना है जिसमे शारीरिक विकास मानसिक विकास ,बौद्धिक विकास ,आध्यात्मिक विकास करना है ।

    आध्यात्मिक विकास के अंतर्गत नैतिक मूल्य ,मानवीय मूल्य ,व्यक्तित्व विकास ,चरित्र निर्माण करना है I किन्तु मुझे प्रतिक्रिया देने मे कोई संकोच नहीं हो रहा है कि लोगो का चारित्रिक पतन हो चुका है ।लोगो का व्यक्तित्व क्या है समझ मे नही आ रहा है ।

    अपने बहुत अच्छा कार्य निष्ठा पूर्वक कर रहे है मै शिक्षक हूं लेकिन अपने आप को राष्ट्र निर्माता मानता हूं अवसर मिलता है अपनी बातो को लिख देता हूं प्रामाणिक तथ्यों के साथ लिखता हूं ।

    हो सके तो आपके माध्यम से कुछ सुधार अवश्य होगा गिलहरी सा मेरा प्रयास निश्चित शिक्षा के उद्देश्यों को पूरा करेगा ऐसा मेरा विश्वास है बाकी प्रभु की इच्छा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial